उदयपुर, संवाद सूत्र। जिले के गोगुंदा उपखंड क्षेत्र के कमोल गांव में बस स्टैण्ड पर बीती रात एक तेंदुआ पहुंच गया। उसने बस स्टैण्ड पर सो रहे एक कुत्ते का शिकार करना चाहा लेकिन अन्य कुत्तों ने ना केवल उस कुत्ते को तेंदुए के मुंह से जिंदा बचा लिया बल्कि तेंदुआ को जमकर दौड़ाया।

घटना बस स्टैण्ड पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। आबादी क्षेत्र के बीच बने गांव के बस स्टैण्ड की इस घटना से लोगों में दहशत का माहौल है। कमोल गांव के बस स्टैण्ड पर रात सवा बारह बजे तेंदुए ने वहां सो रहे कुत्तों को अपना शिकार बनाना चाहा तथा एक कुत्ते को मुंह में दबाकर भागने लगा। इसी दौरान वहां सो रहे अन्य आधा दर्जन कुत्तों उठे और तेंदुए की ओर लपके। इससे तेंदुए ने अपना शिकार वहीं छोड़ा और भागने लगा। कुत्तों ने तब तक उसका पीछा नहीं छोड़ा जब तक वह उनकी आंखों से ओझल ना हो गया। इस घटना से कमोलवासियों में दहशत का माहौल है। कमोल गांव की आबादी क्षेत्र में तेंदुए की दस्तक के बाद ग्रामीणों में भय का माहौल है। ग्रामीणों ने तेंदुए को जल्द से जल्द पकड़ने की मांग की है। इधर, वन विभाग की टीम भी सक्रिय हो गई।

पिछले महीने एक महिला हो चुकी है तेंदुए की शिकार

उल्लेखनीय है कि गोगुंदा उपखंड क्षेत्र के डांग की भागल गांव में एक तेंदुए ने पिछले महीने एक विक्षिप्त महिला को अपना शिकार बना लिया। वह महिला को पहाड़ी पर स्थित गुफा में ले गया और वहां उसके शरीर का अधिकांश हिस्से को खा गया था। जिसके बाद वन विभाग ने शिकारी तेंदुए को नरभक्षी घोषित कर दिया और उसे पकड़ने के लिए तीन गांवों में अलग-अलग जगह पिंजरे लगाए गए हैं लेकिन अभी वह पकड़ से बाहर है। इधर, शहर के नजदीकी जावरमाइंस क्षेत्र के आबादी इलाके में तेंदुओं की सक्रियता से लोग खासे परेशान हैं। इस क्षेत्र में दिन ढलने के बाद लोग घरों से निकलने से डरने लगे हैं।  

Edited By: Priti Jha