जागरण संवाददाता, जयपुर। Ayodhya Verdict: अयोध्या में राम जन्मभूमि मामले में सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद पूरे राजस्थान में सुरक्षा व्यवस्था कड़ी की गई है। संवेदनशील स्थानों पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले को देखते हुए जयपुर सहित 11 शहरों में सोमवार सुबह तक इंटरनेट सेवाओं पर रोक लगा दी गई है। पहले रविवार सुबह दस बजे तक इंटरनेट पर रोक लगाई गई थी, लेकिन बाद में इसे बढ़ाकर सोमवार सुबह दस बजे तक कर दिया गया। हालांकि इंटरनेट सेवाओं के बंद होने से काफी लोग परेशान होते रहे। ई-कारोबार पर असर पड़ा। अग्रिम आदेशों तक धारा 144 पूरे राजस्थान में लागू रहेगी।

पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र यादव और गृह विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव राजीव स्वरूप ने रविवार को सभी जिला कलेक्टरों एवं पुलिस अधीक्षकों से टेलीफोन पर बात कर हालात की समीक्षा की। सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद प्रदेश में शांति बनी हुई है। सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक पोस्ट करने के आरोप में प्रदेश के विभिन्न इलाकों से चार लोगों को गिरफ्तार किया गया है। प्रदेश में स्कूल और कॉलेज सोमवार को खुल जाएंगे । जयपुर पुलिस आयुक्त आनंद श्रीवास्तव ने शहर के संवेदनशील स्थानों का दौरा किया। पुलिस अधिकारी और इंटेलीजेंस विभाग की टीम ने जयपुर शहर में अपनी टीम के साथ रविवार को भी शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिहाज से सड़क पर घूमते रहे। वहीं, मुख्य जगहों पर वज्र वाहन तैनात रखे गए। घुड़सवार पर मौजूद पुलिसकर्मियों ने भी गश्त की।

सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आने के बाद मुस्लिम समाज ने बेहद सकारात्मक पहल की है। बारावफात के मौके पर शहर में रविवार को निकलने वाले जुलूस समेत विभिन्न कार्यक्रमों को रद्द कर दिया गया है। सेंट्रल मिलाद बोर्ड ने शनिवार को बैठक कर यह निर्णय लिया गया था। शहर मुफ्ती अब्दुल सत्तार रजवी ने बताया कि बारावफात पर शहर में मीलाद व जुलूस का प्रोग्राम तय था लेकिन अमन-चैन कायम रखने और सामाजिक सद्भावना को देखते हुए जुलूस-ए-मीलादुन्नबी प्रोग्राम फिलहाल निरस्त कर दिया है। इसके अलावा बीकानेर में भी मुस्लिम समाज ने बारावफात का जुलूस नहीं निकाला। 

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस