जोधपुर, संवाद सूत्र। राजस्थान में रालोपा संयोजक व नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल की वरिष्ठ कांग्रेस नेता स्व. परसराम मदेरणा और उनके परिवार पर टिप्पणी को लेकर बावडी उपखंड मुख्यालय पर सैकड़ों कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने नारेबाजी की। ओसिया विधानसभा के तहसील चौराहे पर हनुमान बेनीवाल का पुतला जलाकर विरोध जताया। शुक्रवार को हनुमान बेनीवाल ने बावड़ी में एक सभा में वरिष्ठ किसान नेता परसराम मदेरणा व उनके परिवार के प्रति असभ्य भाषा का प्रयोग करते हुए टिप्पणी की थी, जिससे किसान वर्ग में और मदेरणा समर्थकों में भारी रोष है।

कांग्रेसियों ने जताया विरोध

बेनीवाल की टिप्पणी के खिलाफ शनिवार को बावड़ी पंचायत समिति के कांग्रेस कार्यकर्ता व पदाधिकारी बावड़ी उपखंड पर पहुंचे और वहां जन आक्रोश सभा करते हुए अनेक व्यक्तो ने बेनीवाल द्वारा कि गई टिप्पणी की निंदा करते हुए विरोध प्रकट किया। वक्ताओं ने बताया कि मदेरणा परिवार किसान वर्ग की आन-बान और शान है और स्व. परसराम मदेरणा जैसे विराट व्यक्तित्व पर हम किसी तरह की तुच्छ टिप्पणी हम बर्दाश्त नही करेंगे। मारवाड़ की किसान राजनीति में स्व. मदेरणा साहब का कद बहुत बड़ा रहा है और उनके प्रति 36 कौम का मान सम्मान है। मदेरणा परिवार की तीसरी पीढ़ी के रूप में दिव्या मदेरणा किसान राजनीति का झंडा बुलंद कर रही हैं।

जानें, क्या कहा था बेनीवाल ने

पिछले कुछ समय से दिव्या मदेरणा और हनुमान बेनीवाल के बीच जुबानी जंग जारी है। दोनों जब एक-दूसरे के विधानसभा क्षेत्रों में जाते हैं, तब एक-दूसरे पर बयानबाजी करते हैं। इधर, इस बार हनुमान बेनीवाल ने जोधपुर के ओसियां क्षेत्र में जनसभा में कहा कि मेरी चिंता छोड़ दो मैं जिसके पीछे पड़ता हूं, उसे खत्म करके रहता हूं। दिव्या को विकास की चिंता छोड़ शादी कर लेनी चाहिए, क्योंकि शादी से दिमाग सही रहता है। उन्होंने कहा कि महिपाल मदेरणा नहीं रहे, इसलिए हम सबको इसकी चिंता करनी चाहिए। मुझे भी शादी में बुलाना आशीर्वाद देने आऊंगा।

बेनीवाल ने कहा कि खींवसर का टेंपरेचर कोई नहीं नाप सकता, आपके दादाजी होते वह भी नहीं नाप पाते। बेनीवाल ने कहा कि ओसियां विधानसभा का चुनाव था तो दोनों मां-बेटी रोते हुए मेरे पास आई थीं कि हमारी मदद कर दो। अगर मैं अपना उम्मीदवार खड़ा कर देता तो हारना पड़ता। मारवाड़ के दिग्गज जाट नेता रहे परसराम मदेरणा को लेकर भी बेनीवाल ने बयानबाजी की। बेनीवाल ने कहा कि वे सीएम बनना चाहते थे तो रोका किसने था। उनको सीएम बनना ही नहीं था। बस बार-बार टोपी जरूर बदलते थे। भोपालगढ़ कांड में किसानों पर कार्रवाई हुई तो वे खुद मंत्री थे। 1998 में दोबारा बोले कि मैं सीएम का दावेदार। उन्होंने जाटों की नाक कटवा दी। कभी गहलोत तो कभी सुखाडिया की गुलामी की। बेनीवाल ने दिव्या मदेरणा के परिवार पर भी लगातार हमला किया। उन्होंने कहा था कि महिपाल मदेरणा की भंवरी वाली सीडी आई थी। इतनी लंबी थी की दो से तीन बार में देखना पड़ता। सीडी के आने के बाद देश में समाज के मान सम्मान को ठेस लगी।

जनसमर्थन जुटाने के लिए थी सभा

हनुमान बेनीवाल इन दिनों मारवाड़ के दौरे पर हैं। यहां केंद्र सरकार की अग्निपथ योजना के विरोध में 27 तारीख को विशाल रैली का आयोजन जोधपुर में रालोसपा की ओर से होना है। इस रैली में ग्रामीणों की संख्या के मद्देनजर हनुमान बेनीवाल ग्रामीण क्षेत्रों में जनसंपर्क कर रहे हैं। यहां लगातार हुए जनसभाएं कर रहे हैं और अग्नि वीर और अग्निपथ योजना के मद्देनजर रणनीति बना रहे हैं। इसी को लेकर ओसियां क्षेत्र में भी हनुमान बेनीवाल की सभा थी। यहां उन्होंने कांग्रेस और मदेरणा परिवार को खूब खरी-खरी सुनाई।

Edited By: Sachin Kumar Mishra