Move to Jagran APP

Rajasthan Budget 2024: 20 साल में पहली बार केंद्र से पहले आएगा राजस्थान का बजट, डिप्टी सीएम दिया कुमारी कल पेश करेंगी बजट

उपमुख्यमंत्री एवं वित्त मंत्री दीया कुमारी बुधवार को राजस्थान का विस्तृत बजट पेश करेंगी। राज्य बजट को लेकर बढ़ती उम्मीदों के बीच दीया कुमारी ने कहा कि बजट तैयार किया गया है और इसे तैयार करते समय हर वर्ग का ध्यान रखा गया है। वहीं 20 साल में यह पहला मौका होगा जब राज्य का बजट केंद्र सरकार के बजट से पहले आ रहा है।

By Jagran News Edited By: Babli Kumari Tue, 09 Jul 2024 11:45 PM (IST)
Rajasthan Budget 2024: 20 साल में पहली बार केंद्र से पहले आएगा राजस्थान का बजट, डिप्टी सीएम दिया कुमारी कल पेश करेंगी बजट
उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी पेश करेंगी बजट (फाइल फोटो)

जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान की भजनलाल शर्मा सरकार का पहला पूर्ण बजट बुधवार को विधानसभा में पेश होगा। उपमुख्यमंत्री दीया कुमारी सुबह 11 बजे वित्तीय वर्ष 2024-25 का बजट पेश करेंगी। 20 साल में यह पहला मौका होगा जब राज्य का बजट केंद्र सरकार के बजट से पहले आ रहा है। अब तक पहले केंद्र का बजट आता था, उसके बाद राज्य का बजट आता था।

बजट में सरकारी विभागों में भर्तियों सहित कई महत्वपूर्ण घोषणाएं हो सकती है। उधर बजट सत्र में भाजपा सरकार के मंत्रियों को घेरने के लिए कांग्रेस ने विधायकों को जिम्मेदारी सौंपी है। प्रदेश प्रभारी सुखजिंदर सिंह रंधावा की मौजूदगी में मंगलवार को हुई कांग्रेस विधायक दल ने तय किया कि प्रतिदिन किसी ना किसी मुददे पर मंत्रियों को घेरा जाएगा।

'शिक्षामंत्री को सदन में नहीं बोलने दिया जाएगा'

आदिवासियों का डीएनए जांचने को लेकर बयान देने वाले शिक्षामंत्री को सदन में नहीं बोलने दिया जाएगा। कांग्रेस के विधायक दिलावर का विरोध करेंगे। कांग्रेस ने सरकार के मंत्रियों को घेरने के लिए शैडो केबिनेट बनाने का भी फैसला किया है। शैडो केबिनेट में प्रत्येक विभाग का जिम्मा दो से तीन विधायकों को सौंपने का निर्णय लिया गया। ये विधायक या तो संबंधित विभाग में पहले से मंत्री रहे या फिर उसके विशेषज्ञ हैं।

सरकार को घेरने का लिया गया निर्णय 

शैडो केबिनेट में वरिष्ठ के साथ युवा विधायकों को भी शामिल कर सदन में मंत्रियों को घेरने के साथ ही बाहर अधिकारियों को घेरा जाएगा। नेता प्रतिपक्ष टीकाराम जूली ने कहा,शैडो केबिनेट में अनुभवी चेहरों के साथ युवाओं को भी शामिल कर सरकार को घेरने का निर्णय लिया गया है। उन्होंने कहा, सात महीने में भाजपा सरकार की नीति जनविरोधी रही है।

कांग्रेस की जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद करने का काम किया

कांग्रेस की जनकल्याणकारी योजनाओं को बंद करने का काम किया है। सरकार कांग्रेस शासन के निर्णयों की समीक्षा और योजनाओं को बंद करने से बाहर ही नहीं निकल पा रहे हैं। कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष गोविंद सिंह डोटासरा ने कहा, यह पर्ची की सरकार है। दिल्ली से पर्ची आती है और यहां फैसले होते हैं। मुख्यमंत्री और मंत्रियों का खुद का कोई सोच नहीं है। बैठक से पहले रंधावा,डोटासरा व जूली ने पहले पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के निवास पर जाकर मुलाकात की। बाद में कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव सचिन पायलट के साथ संगठन व विधायक दल की भावी रणनीति पर चर्चा की।

जनहित के मुददे उठाएंगे तो जवाब देंगे

सरकार में संसदीय कार्यमंत्री जोगाराम पटेल ने कहा,कांग्रेस अगर जनहित के मुददे उठाती है तो अच्छी बात है। जनहित के मुददों का हम पुरजोर जवाब देंगे। अगर केवल व्यवधान पहुंचाने और सदन नहीं चलने देन की कोशिश की जाएगी तो उसका कोई अर्थ नहीं है।

यह भी पढ़ें- 60 से अधिक लोगों को बांग्लादेश से जयपुर लाया मुर्तजा, 22 से 25 लाख में बेची किडनी; बदले में सिर्फ इतने रुपये दिए