जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान के बहुजन समाज पार्टी (बसपा) कार्यकर्ता अपनी पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व से किस हद तक नाराज है, इसका नजारा मंगलवार को जयपुर में देखने को मिला। मंगलवार सुबह बसपा कार्यकर्ताओं ने पार्टी के नेशनल कोऑर्डिनेटर और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष रामजी गौतम एवं प्रदेश प्रभारी सीताराम मेघवाल का मुंह काला कर गधों पर घुमाया। दोनों नेता जब गधे पर बैठने को तैयार नहीं हुए तो कार्यकर्ताओं ने उन्हें जबरन गोद में उठाकर गधे पर बिठा दिया। दोनों नेताओं को कुछ दूर गधों पर बिठाकर घुमाया भी। दोनों नेताओं को कार्यकर्ताओं ने जूते-चप्पलों की माला भी पहनाई। यह नजारा देखकर बसपा के प्रदेश कार्यालय के आसपास भीड़ एकत्रित हो गई।

उधर, इस घटनाक्रम से बसपा सुप्रीमो मायावती कांग्रेस पर भड़क गईं। मायावती ने ट्वीट कर कहा कि कांग्रेस ने पहले राजस्थान में बसपा विधायकों को तोड़ा और अब अंबेडकरवादी मूवमेंट को आघात पहुंचाने के लिए वरिष्ठ लोगों पर हमले करा रही है। मायावती ने पार्टी के नेशनल कोऑर्डिनेटर रामजी गौतम का मुंह काला कर गधे पर बिठाकर घुमाने के मामले को अति निंदनीय और शर्मनाक बताते हुए कहा कि कांग्रेस अंबेडकरवादी मूवमेंट के खिलाफ काफी गलत परंपरा डाल रही है, जिसका जैसे को तैसा जवाब लोग दे सकते हैं।

इस तरह चला घटनाक्रम

रामजी गौतम सोमवार शाम लखनऊ से जयपुर आए थे। उन्हें प्रदेश प्रभारी सीताराम मेघवाल के साथ पार्टी पदाधिकारियों एवं जिला अध्यक्षों की बैठक लेनी थी। इस बैठक में संगठन की मजबूती एवं आगामी स्थानीय निकाय चुनाव को लेकर चर्चा होनी थी। लेकिन बैठक शुरू होने से पहले ही मंगलवार सुबह पार्टी के कुछ कार्यकर्ता हाथों में ग्रीस और दो गधे लेकर बनीपार्क स्थित पार्टी कार्यालय पर पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने गौतम और मेघवाल को जबरन पकड़कर सड़क पर ले आए।

कार्यकर्ताओं ने पहले तो दोनों के मुंह काले किए और फिर उन्हें जूते-चप्पलों की माला पहना दी। दोनों को जबरन दो अलग-अलग गधों पर बिठा दिया। दोनों नेता जब गधे से उतरे तो कार्यकर्तओं ने उन्हें गोद में उठाकर जबरन फिर गधे पर बिठा दिया। इस दौरान रामजी गौतम एक बार तो सड़क पर गिर भी गए। कार्यकर्ताओं के साथ रामजी गौतम और सीताराम मेघवाल की धक्कामुक्की भी हुई। 

हंगामे के बीच रामजी गौतम उग्र कार्यकर्ताओं से खुद को गोली मारने की बात कहते हुए सुनाई दिए। काफी देर तक यह घटनाक्रम चलता रहा। इस दौरान पार्टी कार्यालय के अंदर से कुछ लोग दोनों को बचाने बाहर आए थे, लेकिन उग्र कार्यकर्ताओं ने उन्हें भी खदेड़ दिया। सड़क पर हंगामें की सूचना पर सिंधी कैंप थाने से पुलिसकर्मी बसपा कार्यालय तक पर पहुंचे। जब तक पुलिस पहुंची, तब तक कार्यकर्ता वहां से जा चुके थे।

छह विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने पर प्रदेश अध्यक्ष की पिटाई

पिछले माह बसपा के छह विधायक राजेंद्र गुढ़ा, जोगेंद्र सिंह अवाना, वाजिब अली, संदीप यादव, दीपचंद खेरिया और लाखन सिंह कांग्रेस में शामिल हो गए थे। उन्होंने बसपा विधायक दल का कांग्रेस में विलय कर लिया था। विधानसभा अध्यक्ष ने इसे मंजूरी भी दे दी थी। बसपा विधायकों के कांग्रेस में शामिल होने के बाद हुई बसपा की बैठक में भी रामजी गौतम, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष भगवान सिंह बाबा, विजय प्रताप और हरि सिंह के साथ मारपीट की गई थी। इस बैठक में सिर में चोट लगने से एक कार्यकर्ता प्रेम बारूपाल घायल भी हो गए थे। बाद में भगवान सिंह बाबा ने आठ पूर्व पदाधिकारियों के खिलाफ सिंधी कैंप पुलिस थाने में मामला दर्ज कराया था। पुलिस इस मामले की जांच की कर रही थी कि मंगलवार को दूसरी घटना हो गई।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Sachin Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप