Move to Jagran APP

'PM मोदी कर्नाटक और राजस्थान का दौरा कर सकते हैं, लेकिन मणिपुर का नहीं' गहलोत ने प्रधानमंत्री पर साधा निशाना

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कहा कि जिस तरह से पीएम मोदी ने कहा कि राजस्थान और छत्तीसगढ़ के सीएम को राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति का ध्यान रखना चाहिए उससे राजस्थान की भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने कहा कि मैंने पहली बार देखा है कि कोई प्रधानमंत्री चुनाव के लिए कर्नाटक राजस्थान और अन्य जगहों का दौरा कर रहे हैं लेकिन मणिपुर का नहीं।

By AgencyEdited By: Achyut KumarSat, 22 Jul 2023 01:56 PM (IST)
अशोक गहलोत ने पीएम मोदी पर साधा निशाना, कहा- उन्होंने राजस्थान की भावनाओं को आहत किया

जयपुर, एएनआई। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत (Rajasthan CM Ashok Gehot) ने शनिवार को जयपुर में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने मणिपुर हिंसा (Manipur Violence) को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) पर निशाना साधा। उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि संसद के मानसून सत्र (Parliament Monsoon Session) से पहले पीएम मोदी (PM Modi) ने अपने बयान से राजस्थान की भावनाओं को आहत किया।

'पीएम मोदी की विफलताओं से दुखी है जनता'

गहलोत ने कहा कि कहा कि जिस तरह से पीएम मोदी ने कहा कि राजस्थान और छत्तीसगढ़ के सीएम को राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति का ध्यान रखना चाहिए, उससे राजस्थान की भावनाएं आहत हुई हैं। उन्होंने कहा कि जनता प्रधानमंत्री की विफलताओं से दुखी है।

— ANI MP/CG/Rajasthan (@ANI_MP_CG_RJ) July 22, 2023

'पीएम मोदी को मणिपुर पर बुलानी चाहिए थी बैठक'

अशोक गहलोत ने कहा कि अगर पीएम मोदी मणिपुर नहीं जा सकते तो उन्हें एक बैठक बुलानी चाहिए थी और मणिपुर के हालात की समीक्षा करनी चाहिए थी। मैंने पहली बार देखा है कि कोई प्रधानमंत्री चुनाव के लिए कर्नाटक, राजस्थान और अन्य जगहों का दौरा कर रहे हैं, लेकिन मणिपुर का नहीं।

'अगर मणिपुर में कांग्रेस की सरकार होती तो क्या होता'

राजस्थान के मुख्यमंत्री ने कहा कि मणिपुर में भाजपा की सरकार है। सोचिए अगर कांग्रेस वहां सत्ता में होती तो वे क्या-क्या कहते।

'गुढ़ा को बर्खास्त करना पार्टी का अंदरूनी मामला'

राजेंद्र सिंह गुढ़ा को मंत्री पद से बर्खास्त किए जाने के सवाल पर अशोक गहलोत ने कहा कि यह हमारी पार्टी का अंदरूनी मामला है। इस पर हम अपने हिसाब से चर्चा करते हैं।