जागरण संवाददाता, जयपुर। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का कहना है कि अब तो भाजपा वाले कहने लगे हैं कि विपक्ष मजबूत होना चाहिए। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को यह लोग समझ नहीं रहे हैं। मैं दस महीने उनके साथ रहा हूं, वह समझदार हैं। किसी ने उनसे सवाल किया था कि भाजपा मुक्त की बात क्यों नहीं करते तो उन्होंने कहा था कि बीजेपी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) खत्म नहीं होने चाहिए। हम उनसे विचारधारा के आधार पर लड़ेंगे, हमारी उनके साथ दुश्मनी नहीं है। उन्होंने कहा कि भाजपा और आरएसएस ने पहले पूर्व प्रधानमंत्री स्वर्गीय इंदिरा गांधी और स्वर्गीय राजीव गांधी को बदनाम करने का प्रयास किया। इनकी रणनीति कांग्रेस के नंबर एक के नेता पर हमले की रहती है।

कहा, सभी जगह है भ्रष्टाचार

सरकारी कामकाज में फैले भ्रष्टाचार को लेकर गहलोत ने कहा कि भ्रष्टाचार सभी जगह है। यह किसी एक विभाग में नहीं, जो विभाग मेरे पास हैं, उनके लिए भी मैं नहीं कह सकता हूं कि वहां पर भ्रष्टाचार नहीं है। गहलोत ने केंद्र को छापों वाली सरकार बताते हुए कहा कि एनडीए सरकार में छापे डालने की फितरत है। हमारे यहां छापे पड़े, मेरे भाई के यहां छापे मारे गए थे। जब भाजपा के नेतृत्व वाली सरकार सत्ता से जाएगी तो आम आदमी कहेगा कि यह छापे वाली सरकार थी। गहलोत सोमवार को जयपुर प्रेस क्लब में "प्रेस से मिलिए" कार्यक्रम में बोल रहे थे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि राज्य में शराबबंदी नहीं हो सकती है। उन्होंने कहा कि मैं गुजरात कांग्रेस का प्रभारी रहा हूं। वहां घर-घर में शराब मिलती है। वहां के लोग यहां से ज्यादा शराब पीते हैं।

गजेंद्र सिंह शेखावत पर निशाना साधा

अशोक गहलोत ने केंद्रीय जलशक्ति मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत पर राज्य सरकार गिराने के षड्यंत्र में शामिल होने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह कर्णधार थे। विधायकों की खरीद-फरोख्त मामले में जांच कर रही एजेंसी को शेखावत आवाज का नमूना देने से कतरा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पिछली भाजपा सरकार में तत्कालीन सीएम वसुंधरा राजे ने हमारी सरकार की योजनाओं को बंद कर दिया था। कांग्रेस के नेताओं पर मुकदमें दर्ज किए गए थे। रिफाइनरी का काम बंद कर दिया गया था। उन्होंने कहा कि मेरे सीएम के रूप में दूसरे कार्यकाल में रिफाइनरी स्थापित करने की कार्यवाही शुरू हुई थी। उस समय यह 35 हजार करोड़ में पूरी हो जाती, लेकिन इसका काम बंद कर दिया गया था। अब यह प्राजेक्ट 70 हजार करोड़ तक पहुंच गया है।

गहलोत बोले, मैं अलग तरह की राजनीति करता हूं

अशोक गहलोत ने कहा कि मैं हमेशा अलग तरह की राजनीति करता हूं, जिस पर मुझे संतोष है। मैं कोई चाणक्य नहीं हूं, सच पर चलता हूं। सत्य ही ईश्वर है। जनता के हित में फैसले करता हूं, जिसमें मुझे आनंद आता है। मंदिर, मस्जिद जाता हूं तो ब्रह्मांड के लिए प्रार्थना करता हूं। मैं खुद के लिए कभी कुछ नहीं मांगता हूं। उन्होंने कहा कि मैं तीन बार सीएम, तीन बार केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस का राष्ट्रीय महासचिव रहा हूं। मेरी जाति का एकमात्र विधायक हूं, लेकिन सीएम बना हूं। मुझे अंग्रेजी नहीं आती है। मैं अंग्रेजी में बात नहीं कर सकता हूं। हमारे बचपन में अंग्रेजी का विरोध होता था। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि किसानों से राष्ट्रीकृत बैंकों के एनपीए कर्ज को खत्म कराने के प्रस्ताव पर विचार कर रहे हैं। 

Edited By: Sachin Kumar Mishra