जयपुर, [जागरण संवाददाता] । नाबालिग के यौन उत्पीड़न के मामले में पिछले चार साल से जोधपुर जेल में बंद आसाराम ने गुरूवार को एक बार फिर मीडिया के सवालों पर झल्ला गया ओर बोला "मै ना तो संत हूं और ना ही कथावाचक मै तो गधा हूं,गधों की श्रेणी में आता हूं "।

आसाराम गुरूवार को नियमित सुनवाई के लिए जेल से कोर्ट पहुंचे तो मीडियाकर्मियों ने उन्हे घेर लिया और फर्जी बाबाओं की सूची में उनका नाम शामिल होने को लेकर सवाल पूछा तो झल्लाए आसाराम ने कहा मैं ना तो संत हूं और ना ही कथावाचक हूं,मै तो गधों की श्रेणी में आता हूं,गधा हूं ।

इसके बाद पत्रकारों ने एक बार फिर आसाराम से पूछा कि आप अपने आप को गधा क्यों कह रहे है तो गुस्से में आसाराम जेल जाने के लिए पुलिस के वाहन में बैठ गया । वाहन की खिड़की में से मीड़ियाकर्मियों की ओर चुप रहने का इशारा काफी देर तक करता रहा ।उल्लेखनीय है कि अखाड़ा परिषद ने पिछले दिनों बैठक कर आसाराम,राम रहिम सहित कई लोगों को संत नहीं मानते हुए ऐसे लोगों की सूची जारी की थी 

 बुधवार को भी आसाराम को नियत समय पर पुलिस ने कोर्ट में पेश किया था। इस दौरान जब उनसे अखाड़ा परिषद की सूची के बारे में पूछा गया तो वे चुप रहे थे और कोई जवाब नहीं दिया था। हालांकि, कोर्ट से बाहर निकलते समय यह जरूर कहा था- 'मैं कोई बहाना नहीं कर रहा हूं, मेरी तबीयत ठीक नहीं थी। इसी वजह से कुछ नहीं बोला। आज ठीक हूं तो बोल रहा हूं।'

 

 

Posted By: Preeti jha