जयपुर, जेएनएन। Fake Currency. राजस्थान के सीकर जिले में पुलिस ने 200-200 रुपये के नकली नोट छापने वाले एक गिरोह को पकड़ा है। इनके पास से 25 हजार रुपये से ज्यादा के नकली नोट बरामद किए गए हैं। नौ लोगों को गिरफ्तार किया गया है। गिरोह सीकर शहर के बीचो-बीच एक ट्रेवल शॉप की आड़ में नकली नोट छापता था। गिरोह के सदस्यों में से एक रामावतार कराते का गोल्ड मेडलिस्ट और पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष भी रहा है। सभी आरोपित पढ़ाई में अव्वल आने वाले भी बताए जा रहे हैं।

पुलिस के अनुसार, सीकर जिले के फतेहपुर कस्बे में एक मुखबिर की सूचना पर सात लोगों विजेंद्र, अभिषेक, रामावतार, अजय, अंकित, राकेश और रफीक को पकड़ा गया। इन सभी के पास से 200-200 रुपये के नोट मिले, जिनका सीरियल नंबर एक ही था। नोट देखने में असली जैसे ही लग रहे थे। इन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की गई तो कोई संतोषप्रद जवाब नहीं दे पाए। कड़ी पूछताछ में अंकित ने बताया कि ये नोट सीकर में कल्याण सर्किल पर स्थित लक्ष्मी ट्रेवल शॉप पर छापे जाते हैं। पुलिस ने इस दुकान पर छापा मारा और प्रिंटर, सीपीयू, एलईडी, की-बोर्ड, कटे फटे नोट और 200-200 रुपये के जाली नोट बरामद किए।

पुलिस ने दुकान के संचालक सुरेंद्र व शुभकरण को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बताया कि गिरफ्तार आरोपितों की की उम्र 19 से 30 वर्ष के बीच है। इनमें से रामवतार सीकर के विज्ञान कॉलेज में 2017-18 में छात्रसंघ का अध्यक्ष रह चुका है और कराते में राजस्थान की ओर से गोल्ड मैडल जीत कर लाया था। वह एमएससी कर रहा है। आरोपित अंकित ने बताया कि उन्होंने गूगल पर सर्च कर जाली नोट बनाना सीखा था और रोजमर्रा के कामों में इनका इस्तेमाल करते थे। बाद में लालच बढ़ गया और इन्होंने अधिक नोट छाप कर सीकर के आसपास के इलाकों में इन्हें खपाने की योजना बनाई थी, लेकिन इससे पहले ही पकड़े गए। आरोपितों से पूछताछ जारी है।

राजस्थान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sachin Kumar Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस