जागरण संवाददाता, जयपुर । राजस्थान विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस में मुख्यमंत्री के चेहरे को लेकर चल रही खींचतान खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सचिन पायलट के बीच चल रही खेमेबंदी के बीच अब पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव डॉ. सीपी जोशी भी मैदान में उतर गए हैं।

रविवार को नाथद्वारा में अपने जन्मदिन समारोह के बहाने जोशी ने शक्ति प्रदर्शन किया। इस मौके पर उनके समर्थकों ने उन्हें भावी मुख्यमंत्री के रूप में पेश किया। समारोह में कई कांग्रेसी दिग्गज शामिल हुए। तीन दिन पहले अशोक गहलोत को मुख्यमंत्री पद का बेहतर चेहरा बताने वाले पूर्व केंद्रीय मंत्री लालचंद कटारिया और आधा दर्जन विधायकों ने रविवार को जोशी के समर्थन में नारेबाजी की। कटारिया ने हाथ खड़े कर जोशी को राजस्थान का नेता बताते हुए समर्थकों से नारे लगवाए। वहीं अपने भाषण के दौरान जोशी ने भी इशारों ही इशारों में खुद को मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बता दिया।

दरअसल, शनिवार को उदयपुर में अशोक गहलोत ने बड़ा बयान दिया था। मीडिया द्वारा किए गए मुख्यमंत्री के चेहरे के सवाल पर गहलोत ने कहा कि जब चेहरा दस साल सामने रहा है तो अब किस रूप में चेहरे को सामने लाया जाए। उन्होंने साफ किया कि वह ताउम्र राजस्थान की सेवा करते रहेंगे।

सचिन पायलट विदेश में, लेकिन समर्थक सक्रिय

पीसीसी अध्यक्ष सचिन पायलट इन दिनों विदेश में हैं, लेकिन उनके समर्थक प्रदेश में सक्रिय हैं। गहलोत के बयान और जोशी के शक्ति प्रदर्शन के बीच पायलट समर्थक पूर्व सांसद डॉ. हरि ¨सह, पूर्व मंत्री राजेन्द्र चौधरी और भंवरलाल मेघवाल अपने गुट के नेताओं को एकजुट करने में जुटे हैं।

 

Posted By: Arun Kumar Singh