जेेेेएनएन, भिखीविंड [तरनतारन]। खेतों में जलाई गई पराली के कारण 70 वर्षीय बुजुर्ग महिला की जलकर मौत हो गई। हादसा शनिवार को खेमकरण के गांव वीरम के पास हुआ। गांव वीरम की बुजुर्ग महिला मंजीत कौर अपने पोते लवप्रीत सिंह के साथ स्कूटी पर भिखीविंड जा रही थीं। पराली की आग से फैले धुएं के कारण स्कूटी खेत में घुस गई। करीब 20 मिनट बाद गांव वालों ने महिला को खेत से बाहर निकाला। वह 80 फीसद झुलस गई थी।

गंभीर हालत में महिला को भिखीविंड के निजी अस्पताल लाया गया, लेकिन डाक्टरों ने गंभीर हालत देखते हुए उसे सरकारी अस्पताल सुरसिंह रेफर कर दिया गया। वहां से भी उसे अमृतसर रेफर कर दिया गया, लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई। हादसे में स्कूटी भी जलकर नष्ट हो गई। उसका सिर्फ ढांचा ही बचा है। महिला का पोता सड़क पर ही गिरने के बाल-बाल बच गया।

पुलिस ने नहीं की कोई कार्रवाई

सूत्रों के अनुसार जिस खेत में पराली को आग लगाई गई थी, उस किसान को राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। इसके चलते उसके खिलाफ अभी तक पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की है। इस मामले में थाना खालड़ा के प्रभारी नरिंदर सिंह ढोटी ने कुछ भी कहने से इन्कार कर दिया। हालांकि, एसएसपी ध्रुमन एच निंबाले ने कहा कि डीएसपी भिखीविंड राजबीर सिंह से मामले की रिपोर्ट मांगी जा रही है। इसके बाद ही कार्रवाई की जाएगी। वहीं, डीसी कुलवंत सिंह का कहना है कि एसएसपी से इस मामले में बात हुई है। कृषि विभाग की टीम को मौके पर जाकर रिपोर्ट देने लिए कहा गया है। किसान के खिलाफ कड़ी कानूनी करवाई की जाएगी।

पहले भी हो चुकी हैं मौतें

  • 29 अक्टूबर को बठिंडा में मानसा रोड स्थित गांव भाई बख्तौर के पास एक कार और ट्राले के बीच पराली के धुएं के कारण भीषण टक्कर हो गई थी। इससे कार सवार में पांच लोगों की मौत हो गई थी। इनमें दो महिलाएं व तीन पुरुष थे।
  • अटारी-कपूरथला मार्ग पर दो सप्ताह पहले पराली के धुएं के कारण हुए सड़क हादसे में गांव कोट धर्म चंद खुर्द के मजदूर अंग्रेज सिंह की मौत हो गई थी, जबकि उसका बेटा अजयपाल सिंह घायल हो गया था। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021