जागरण संवाददाता तरनतारन: प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे फेरी का विरोध करते हुए किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब ने जम्मू-कश्मीर, राजस्थान राष्ट्रीय राजमार्ग पर मंगलवार की दोपहर को धरना लगा दिया। इसके बाद आवाजाही मुकमल तौर पर ठप हो गई।

किसान मजदूर संघर्ष कमेटी पंजाब ने जिले से ट्रैक्टर ट्रालियां लेकर फिरोजपुर जाने का रुख किया। हाईवे पर कस्बा हरिके पत्तन में पुलिस बल तैनात किया गया जिसने किसानों के काफिले को आगे जाने से रोका। पुलिस के साथ तीखी नोक-झोंक के बाद किसानों ने राष्ट्रीय मार्ग पर जाम लगा दिया और पुलिस के खिलाफ नारेबाजी शुरू कर दी। कमेटी के जिला अध्यक्ष सुखविंदर सिंह सभरा ने धरने की अगुआई करते कहा कि दिल्ली आदोलन के दौरान 700 से ज्यादा किसानों की मौत के लिए केंद्र सरकार जिम्मेदार है। रात नौ बजे तक पुलिस अधिकारियों ने किसानों के साथ बातचीत करते हुए रास्ता खुलवाने का प्रयास किया मगर किसानों ने पक्के मोर्चे का एलान करते हुए कहा कि अब यह मार्ग नहीं खोला जाएगा। इसके बाद यह हाईवे पूरी तरह बंद कर दिया गया है। इस मार्ग से प्रत्येक दिन में करीब सात सौ वाहन गुजरते हैं। ऐसे में वहां पर जाम लगने के बाद से समस्या बढ़ गई है। यहां के दूसरे प्रदेशों को भारी संख्या में ट्रक माल लेकर जाते हैं। यदि किसान पक्के तौर पर यहीं पर बैठ जाएंगे तो इस रूट से ट्रांसपोर्ट सिस्टम ठप हो जाएगा।

Edited By: Jagran