जासं, तरनतारन: 58 वर्ष पुरानी सिविल अस्पताल की इमारत का एक करोड़ रुपये से नवीनीकरण किया जाएगा। इसका कार्य शुरू कर दिया गया है। इसके लिए राज्य सरकार द्वारा एक करोड़ की राशि जारी की गई है। जिला स्तरीय अस्पताल के सुंदरीकरण के लिए हलका विधायक डा. धर्मबीर अग्निहोत्री की ओर से मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी से फंड की मांग उठाई गई थी। इसे सरकार की ओर से पूरा करते ही बकायदा कामकाज शुरू हो गया है। अस्पताल की यह इमारत छह माह में नए रूप में दिखाई देगी।

सिविल अस्पताल की पुरानी इमारत के नवीनीकरण के लिए विधायक डा. धर्मबीर अग्निहोत्री द्वारा पंजाब हेल्थ सिस्टम कारपोरेशन (पीएचएससी) को कहा गया था कि मरीजों को बेहतर सुविधाएं देने के लिए योजना बनाई जाए। इस पर सरकार ने मुहर लगाते ही बकायदा एक करोड़ की राशि जारी कर दी। इसके बाद इमारत के नवीनीकरण का काम आरंभ हो गया। छह माह में यह कार्य मुकम्मल करने का ठेका द डेरा साहिब कोआपरेटिव सोसायटी को दिया गया है। ये कार्य होंगे

-सीवरेज सिस्टम बदला जाएगा।

-पानी की सप्लाई के लिए नए सिरे से पाइपें बिछाई जाएंगी।

-खिड़कियां और दरवाजे नए लगेंगे।

-मरीजों के लिए रैंप बनाया जाएगा।

-आठ वार्डो के 38 कमरों, 25 बाथरूमों, कोरिडोर, वैक्सीनेशन स्टोर, ओटी के अलावा इमरजेंसी वार्ड का भी नवीनीकरण होगा।

-लाइटिग, एसी, सीलिग का काम भी नए सिरे से किया जाएगा। कब बना था अस्पताल

- 5 जनवरी 1973 को तत्कालीन मुख्यमंत्री ज्ञानी जैल सिंह ने 50 बेड वाले सिविल अस्पताल का नींव पत्थर रखा था।

-26 अक्टूबर 1990 को राज्यपाल के उच्च सलाहकार पीके कठपालिया ने इमरजेंसी वार्ड का नींव पत्थर रखा था।

-14 फरवरी 1994 को सेहत मंत्री हरचरन सिंह बराड़ ने इस इमारत का उद्घाटन किया था।

-9 जुलाई 2013 को सेहत मंत्री मदन मोहन मित्तल ने अस्पताल को 100 बेड में तब्दील करते नई इमारत का उद्घाटन किया था। अब ट्रामा वार्ड के निर्माण का कार्य बाकी: डा. अग्निहोत्री

विधायक डा. धर्मबीर अग्निहोत्री ने कहा कि विधायक बनते ही मैंने जच्चा-बच्चा के लिए 100 बेड वाली इमारत सात करोड़ में तैयार करवाकर लोकार्पित की। अब साढ़े सात करोड़ की लागत से ट्रामा वार्ड का निर्माण कार्य शुरू करवाया जाना बाकी है। इस प्रोजेक्ट के पूरा होते ही जिला तरनतारन के साथ फिरोजपुर के लोगों को बेहतर एमरजेंसी सेवाएं मुहैया होंगी। उन्होंने कहा कि सरकार के बेहतर प्रयासों के चलते जिला स्तरीय अस्पताल 200 बेड में तब्दील हो चुका है। यहां पर वेंटिलेटर की सुविधा भी है। आने वाले दिनों में सिटी स्कैन की सुविधा भी मिल जाएगी।

Edited By: Jagran