जागरण संवाददाता, संगरूर : किसानों द्वारा रेलवे ट्रैक खाली किए जाने के बाद रेल परिवहन जहां चालू हो गया है वहीं अनाज भी बिना किसी रोकटोक के अन्य राज्यों तक पहुंचने लगा है। मार्केट कमेटी संगरूर के चेयरमैन अनिल घीचा ने कहा कि रेलवे ट्रैक जाम होने के कारण शैलर मालिकों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। रेल आवाजाही शुरू होने से सभी वर्गों को फायदा होगा। गत दो महीने से मालगाड़ी बंद होने से आढ़तियों के शैलर मालिकों की ओर से सप्लाई किया जाने वाला चावल गोदामों में रुका हुआ था।

जिला संगरूर के शैलरों में तीन करोड़ 60 लाख बोरी अनाज रखने की समर्था है, लेकिन केंद्र सरकार के अड़ियल रवैये के कारण स्पेशल न लगने से जिले में से विभिन्न राज्यों में जाने वाले एक करोड़ 11 लाख 30 हजार गट्टे रुक गए थे। इससे आढ़तियों का बड़े स्तर पर नुकसान हुआ है। केवल संगरूर ब्लॉक के 3 लाख 50 हजार चावल के गट्टे सप्लाई नहीं हो सका था, जिसमें से काफी अनाज सस्ती दरों पर गरीबों व जरूरतमंदों को मुहैया करवाया जाता है। केंद्र सरकार ने कृषि कानून लाकर किसानों सहित सभी वर्गों को बड़ा नुकसान पहुंचाया है। घीचा ने बताया कि राज्य में दोबारा मालगाड़ी चलने से जिला संगरूर में 17 स्पेशल लग चुकी हैं। इनसे एक करोड़ 19 लाख गट्टा अनाज दूसरे राज्यों को रवाना हो गया है। केवल संगरूर ब्लॉक से तीन स्पेशल लगने से 2 लाख 10 हजार गट्टा सप्लाई हो गया है। आढ़तिया एसोसिएशन संगरूर के प्रधान सोमनाथ बांसल व समूह आढ़तियों द्वारा पंजाब सरकार व मुख्यमंत्री पंजाब का धन्यवाद किया। शैलरों में रुके हुए माल की सप्लाई शुरू होने पर खुशी व्यक्त करते कहा कि जल्द आगामी स्टॉक रखने के लिए स्थान खाली हो जाएगा। उन्होंने किसानों को भविष्य में रेल आवाजाही ठप न करने की अपील की।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021