जागरण संवाददाता, संगरूर

भारतीय किसान यूनियन एकता उगराहां द्वारा जिलाध्यक्ष अमरीक सिंह गंढूआ व महासचिव दरबारा सिंह छाजला की अगुवाई में डीसी कार्यालय के संगरूर के समक्ष लगाया धरना 17वें दिन भी जारी रहा।

बुधवार के धरने के दौरान प्रधानमंत्री के पंजाब दौरे के विरोध में बड़ी संख्या में स्थानीय अनाज मंडी में एकत्रित हुए किसानों ने बाजारों में रोष मार्च करने के बाद डीसी कांप्लैक्स के समक्ष पहुंच कर रोष प्रदर्शन किया व केंद्र सरकार का पुतला फूंका। बाजारों में रोष मार्च के दौरान किसान-मजदूर एकता जिदाबाद आदि के नारे लगाए गए।

धरने को संबोधित करते हुए जिला प्रधान अमरीक सिंह व महासचिव दरबार सिंह ने बताया कि किसानों के मसले हल न होने के कारण किसानों में सरकारों के प्रति गुस्सा अपनी चरन सीमा पर है। किसान नेताओं ने मांग की कि किसान आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों को योग्य मुआवजा दिया जाए, एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाए, किसानों व मजदूरों का पूरा कर्ज माफ किया जाए, कर्मचारियों की मांगें पूरी की जाएं, लखीमपुर घटना के आरोपितों को पद से बर्खास्त किया जाए, एमएसपी की गारंटी दी जाए, स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू की जाए। किसानों ने कहा कि जब तक उक्त मांगें पूरी नहीं होती संघर्ष जारी रखा जाएगा। इस मौके पर सतिंदर सिंह, गुरनाम सिंह, मनजीत घराचों, हरबंस सिंह, जरनैल सिंह, मनजीत सिंह, गुरनाम सिंह आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran