संवाद सूत्र, लोंगोवाल (संगरूर) : शनिवार दोपहर लोंगोवाल में सिमरन पब्लिक स्कूल की मारुति वैन में जिदा जले चार बच्चों का रविवार सुबह ही लोगोंवाल के रामबाग में एक साथ संस्कार कर दिया गया। सुबह सिविल अस्पताल संगरूर से गांव में पहुंचे चार बच्चों के शवों को देखकर हर किसी की आंख नम हो गई व घरों में चीख पुकार मच गई। मृतक बच्चों के परिवारों को धैर्य व बच्चों को श्रद्धांजलि देने के लिए पहुंचे सैकड़ों की गिनती में ग्रामीणों का काफिला बच्चों की अर्थियां कंधे पर उठाकर रामबाग में पहुंचा, जहां बच्चों का अंतिम संस्कार किया गया। बेशक शनिवार को हादसे के उरांत सांसद भगवंत मान, हलका विधायक अमन अरोड़ा, राज्यसभा सदस्य सुखदेव सिंह ढींडसा, शिक्षामंत्री विजयइंद्र सिगला, डीसी व एसएसपी तुरंत परिवार से दुख जाहिर करने के लिए मौके पर पहुंच गए थे, लेकिन रविवार को संस्कार के दौरान उक्त राजनीतिक नेताओं व प्रशासनिक अधिकारी वहां नहीं थे। एसजीपीसी प्रधान गोबिद सिंह लोंगोवाल व हलका इंचार्ज दामन थिद बाजवा व हरमन बाजवा मौके पर मौजूद रहे। हरमन बाजवा ही सिविल अस्पताल से बच्चों के शवों को लोंगोवाल लेकर गए।

उल्लेखनीय है कि स्थानीय सिद्ध समाधां गुरुद्वारा साहिब के पास मौजूद सिमरन पब्लिक स्कूल द्वारा हादसे से एक दिन पहले कबाड़ से खरीदी ओमनी मारुति वैन स्कूल से 500 मीटर की दूरी पर अचानक आग लग गई थी। कार में हादसे के दौरान स्कूल के कुल 12 छात्र नवजोत कौर, सुखजीत कौर उर्फ कमलप्रीत कौर, सिमरजीत सिंह, अराध्या, अमनदीप कौर, अनमोलप्रीत कौर, मनवीर सिंह, सहजप्रीत कौर, सतगुर सिंह, प्रिया, अर्शदीप कौर, करणवीर सिंह को लेकर मारुति वैन चालक संगीत अध्यापक दलवीर सिंह स्कूल से रवाना हुआ। करीब पांच सौ मीटर की दूरी पर पहुंचते ही कार के निचले हिस्से में आग लगी राहगीरों ने देखी। जब उन्होंने कार को रुकवाकर कार की आग बुझाने की कोशिश की तो पेट्रोल के कारण आग भड़क और कार में सवार नवजोत कौर, सुखजीत कौर उर्फ कमलप्रीत कौर, सिमरजीत सिंह, अराध्या जलकर राख हो गए।

रविवार सुबह रामबाग में अंतिम संस्कार सैकड़ों सेजल आंखों से किया गया। लोग सुबह ही रामबाग में एकत्र होना शुरू हो गए देखते ही देखते लोगों का सैलाब रामबाग में उमड़ पड़ा। जैसे ही सरकारी एंबुलेंस बच्चों के शव लेकर रामबाग में पहुंची। बच्चों के परिजनों की चीख पुकार ने जैसे आसमान फाड़ दिया। हर किसी की आंखों में आंसु थे व परिजन रो-रोकर बेहाल होते दिखे। चार अलग-अलग चिताएं बनाई गई जहां पर अरदास के बाद बाद बच्चों के पिता ने चिता को अग्नि भेंट की गई।

इस मौके पर मौजूद शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के प्रधान भाई गोबिद सिंह लोंगोवाल ने पीड़ित परिवारों को शिरोमणि कमेटी द्वारा एक-एक लाख देने का एलान किया। उन्होंने कहा कि शक्षामंत्री के इलाके में ही हुआ यह हादसा बेहद दुखदाई है, जिसने पंजाब सरकार, शिक्षामंत्री व प्रशासन की लापरवाही सामने आई है। शिक्षा मंत्री के जिले मे सिविल प्रशासन ऐसी लापरवाही कर रहा है, जिस कारण मासूम बच्चों को अपनी जान से हाथ धोने पड़े। पूरे राज्य में सभी स्कूलों के वाहनों को जांच की जाए व आरोपित स्कूल मालिक व वैन चालक पर उचित कार्रवाई करनी चाहिए। इस मौके पर विधानसभा हलका सुनाम की इंचार्ज दामन बाजवा ,रजिस्ट्रार उषा रानी इत्यादि उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!