जागरण संवाददाता, संगरूर

श्री रामलीला वेलफेयर कमेटी सेखुपुरा की बैठक कमेटी प्रधान व नगर सुधार ट्रस्ट संगरूर के चेयरमैन नरेश गाबा की प्रधानगी में स्थानीय शिव मंदिर में हुई। इसमें विशेष तौर पर चेयरमैन प्रकाश चंद काला, सरप्रस्त राज कुमार अरोड़ा, मनीश सिगला, महासचिव नत्थू लाल ढींगरा, डा. हरीओम जिदल, जोती गाबा शामिल हुए। बैठक में राम लीला मंचन करने पर विचार किया गया। सर्वसम्मति से फैसला किया कि इस वर्ष रामलीला का मंचन महाराजा रणजीत सिंह मार्केट सुनामी गेट उपली रोड पर होगा। कमेटी के प्रवक्ता राज कुमार अरोड़ा ने बताया कि रामलीला का मंचन 4 अक्टूबर से शुरु होगा। रामलीला की शुरुआत समाज सेवी नत्थूलाल ढींगरा 28 सितंबर को झंडे की रस्म कर करेंगे। डायरेक्टर रमेश खेतरपाल, निपुन कांत, बाल कृष्ण, केवी जिदल, विजय कुमार, ब्रदी जिदल, जगविदर काला, पंकज गर्ग, दीपू गाबा, रवि गाबा, भीम सैन आदि मौजूद थे। ------------------- रामलीला मंचन की तैयारी को लेकर विचार-चर्चा संवाद सूत्र, बरनाला

पुरानी रामलीला ग्राउंड गीटीवाला मंदिर में रामलीला मंचन मंडली की बैठक प्रधान नाभ चंद की अगुआई में हुई। बैठक में रामलीला के मंचन की तैयारियों को लेकर चर्चा की गई।

नाटक मंडली के सदस्यों ने रामलीला मंचन की रिहर्सल भी की। कोरोना संक्रमण को देखते हुए मंच की रूपरेखा पर भी वार्तालाप किया गया। बैठक को संबोधित करते अशोक जिदल, त्रिलोक चंद, बलदेव मक्खन, रजन लक्की, चांद बांसल ने बताया कि चार अक्टूबर से रामलीला ग्राउंड में रामलीला का मंचन शुरू हो जाएगा। पहली रात नारद मोह की प्रस्तुति दी जाएगी। रामलीला मंचन में आने वाले कलाकार पूरे नवरात्र में सात्विक भोजन करते हैं और नवरात्र रखते हैं। रामलीला मैदान के भीतर चमडे़ के जूते भी पहनकर आना वर्जित है। एक बार रामलीला शुरू हुई तो संपन्न होने पर ही समाप्त होती है, बीच में कोई भी रुकावट नहीं होती है। इस मौके पर दीशू, हनी, गौरी, नंदू, भूषण, जस्सी, राज, जीवन डडी आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran