जागरण संवाददाता, बरनाला : जिला प्रशासन ने आगामी चुनाव की तैयारी के लिए एसडी कॉलेज आफ एजुकेशन की इमारत को अपने कब्जे में लेने का कॉलेज प्रशासन ने विरोध किया है।

प्रिंसिपल डॉक्टर तपन कुमार ने बताया कि ब्लॉक समिति व जिला परिषद की चुनाव के लिए कॉलेज अंदर स्ट्रांग रूम बनाने व ड्यूटी स्टाफ की रिहर्सल के लिए कॉलेज हाल व ग्राउंड लेने से पहले उनके साथ कोई बातचीत नहीं की गई। एसडीएम द्वारा 4 सितंबर को जारी किए गए एक पत्र अनुसार कालेज को स्ट्रांग रूम रिजर्व रखने की हिदायत की गई थी। इस से बड़ी बात यह है कि 8 सितंबर को कालेज ग्राउंड में होने वाली पहली रिहर्सल के लिए कालेज को 7 सितंबर की शाम 4 बजे एसएसपी को लिखी चिट्ठी की नकल कापी के द्वारा सूचित किया गया। बिना किसी सूचना के क्लास रूमों को स्ट्रांग रूम बनाने के लिए ईंट भी फेकवानी शुरू कर दीं गई, अभी विगत माह ही ग्राउंड पर 2 लाख रुपए खर्च किए गए हैं व 12 से 14 सितंबर तक पंजाबी यूनिवर्सिटी का एक बड़ा टूर्नामेंट भी करवाया जा रहा है।

¨प्रसिपल साहू ने कहा कि 28 जुलाई 2010 को भारत चुनाव कमिशन ने पत्र नंबर 464-आइएनएसटी-2010-ईपीएस के द्वारा स्पष्ट निर्देश दिए गए हैं कि चुनाव प्रबंधों के लिए शैक्षणिक संस्थान कैंपस को प्रयोग करने से गुरेज किया जाएं। विद्यार्थियों की पढ़ाई के नुकसान के मद्देनजर कई बार कालेज में चुनाव संबंधी कार्य नहीं चलाने की लिखित निवेदन किया जा चुका है, परन्तु प्रशासन द्वारा इस संबंधी कोई ध्यान नहीं दिया गया।

कॉलेज के प्रिंसिपल डॉक्टर रमा शर्मा ने कहा कि प्रशासन द्वारा रिहर्सल के लिए कॉलेज ग्राउंड का प्रयोग करने से पहले या बाद में उनके साथ किसी किस्म का संबंध भी पैदा नहीं किया गया। उन्होंने मांग की है कि विद्यार्थियों की पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए समूह चुनाव प्रक्रिया की गतिविधियों कालेज कैंपस से हटा कर कहीं ओर लेकर जाएं, हो सके तो जिला प्रबंधकीय परिसर में बहुत सारी खाली पड़ी जगह को इस मंतव्य के लिए प्रयोग में लाया जाएं।

Posted By: Jagran