संवाद सहयोगी, संगरूर

पंजाब यूटी मुलाजिम व पेंशनर सांझा फ्रंट द्वारा पंजाब सरकार की वादा खिलाफी के प्रति रोष व्यक्त करने के लिए जिला कनवीनर जगदीश शर्मा, राज कुमार अरोड़ा, बाल कृष्ण, वासवीर भुल्लर आदि मुख्य नेताओं के नेतृत्व में डीसी कार्यालय समक्ष शुरु की भूख हड़ताल दूसरे भी जारी रही। नसीब चंद शर्मा, गुरतेज राम, जसवीर सिंह खालसा, नंद लाल, कृष्ण गोपाल, दर्शन लहरा, हरबंस चंगालीवाला, अरजन सिंह, जगदेव सिंह, रमेश कुमार सहित कुल 51 सदस्य भूख हड़ताल पर बैठे। रोष प्रदर्शन के पश्चात बाद विभिन्न बाजारों से रोष रैली निकालकर केंद्र व पंजाब सरकार के खिलाफ नारेबाजी की गई। रैली में शामिल राज्य मुलाजिम नेता रणजीत सिंह राणवां, राज कुमार अरोड़ा ने कहा कि केंद्र सरकार आए दिन पेट्रोल, डीजल, गैस सिलेंडर सहित दूसरी जरूरी चीजों के रेट बढ़ाकर जनता को परेशान कर रही है। पंजाब सरकार भी केंद्र के इशारे पर चलते हुए मुलाजिमों व पेंशनर्स के हक छीन रही है जिसके तहत अभी तक महंगाई भत्ते की किस्तें जारी नहीं की गईं। इसके उलट अपने विधायकों व मंत्रियों को भत्ते, पैंशनें व सुख सुविधाएं दी जा रही हैं। उन्होंने मांग की कि प्रत्येक प्रकार के कच्चे मुलाजिम को पक्का किया जाए, पुरानी पेंशन स्कीम जारी की जाए, ठेका प्रणाली बंद की जाए, वेतन कमिशन की रिपोर्ट जारी की जाए, महंगाई भत्ते की किस्तें बकाये सहित अदा की जाएं, मुलाजिमों व पैंशनर्स पर लगाया 200 रुपये जजिया टैक्स बंद किया जाए, सार्वजनिक संस्थाओं का निजीकरण बंद किया जाए, मेडिकल भत्ता दो हजार रुपपये दिया जाए, दर्जाचार कर्मचारियों की पोस्टें खत्म करने का फैसला वापस लिया जाए। नेताओं ने कहा कि आठ मार्च को दोपहर सरकार की अर्थी व बजट की कापियां फूंकी जाएंगी। इस मौके राज कुमार शर्मा, राजिदर सिंह, मेजर सिंह, वेद प्रकाश, सुरिदर सोढी, बलदेव हथन सहित बड़ी संख्या में मुलाजिम व पेंशनर उपस्थित थे।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021