जागरण टीम, रूपनगर/नूरपुरबेदी

हलका रूपनगर के विधायक व आप पार्टी के नेता अमरजीत ¨सह संदोआ के पीए जसपाल ¨सह पाली ने कांग्रेस पार्टी का हाथ थाम लिया गया है, लेकिन साथ ही पाली ने नया विवाद भी खड़ा कर दिया है । पाली ने कहा कि बेईहारा खड्ड में मारपीट में शामिल अमृत ¨सह के हक में बयान उसने विधायक अमरजीत ¨सह संदोआ के कहने पर दिए थे। बेशक विधायक कुछ भी कहते रहें। जबकि विधायक संदोआ न्यूज चैनल इंटरव्यू में कहते रहे हैं कि पीए पाली ने उनसे बिना पूछे ही आरोपित अमृत ¨सह के हक में बयान दिए हैं तथा वो इस बारे पीए से पूछेंगे। दैनिक जागरण से बातचीत में जसपाल ¨सह पाली ने कहा कि वो पार्टी की हाईकमान तथा पंजाब की इकाई में चल रही खींचातानी के कारण पार्टी छोड़कर आए हैं। पंजाब में संदोआ ग्रुप के विधायक और खैहरा ग्रुप के विधायक कुर्सी की दौड़ में लगे हैं। उन्हें पंजाब से कोई मलतब नहीं है। पाली ने पूछने कहा कि उनका रूपनगर के विधायक अमरजीत ¨सह संदोआ से पहले से पार्टी से जुड़े हुए हैं तथा फाउंडर सदस्य रहे हैं। इस दौरान कांग्रेस के प्रवक्ता ब¨रदर ¨सह ढिल्लों ने जसपाल ¨सह पाली को सिरोपा देकर कांग्रेस पार्टी में शामिल किया। ये था मामला 21 जून 2018 को रूपनगर के विधायक अमरजीत ¨सह संदोआ पर बेईहारा हरसा बेला खड्डों में हुए हमले में आरोपित बनाए गए लोगों में शामिल अमृत ¨सह ने खुद को बेकसूर होने का दावा करते हुए रूपनगर पुलिस के पास जांच करवाने की मांग की थी। इस मामले में पूछताछ के दौरान विधायक के पीए जसपाल ¨सह पाली ने बताया कि अमृत ¨सह ने उसे नहीं मारा तथा उसने तो हमलावरों से उन्हें बचाने का प्रयास किया था। इसके बाद पुलिस ने आरोपित अमृत ¨सह को आरोप मुक्त करवाने हेतु आनंदपुर साहिब अदालत में आवेदन दायर किया। जिस पर अदालत ने अमृत ¨सह को मामले में नाम हटाने के आदेश जारी कर दिए। जबकि हमले की वीडियो क्लिप में साफ दिखाई देता है कि अमृत ¨सह पीए पाली को पीट रहा है।

Posted By: Jagran