जागरण संवाददाता, नंगल : श्री कृष्ण जन्माष्टमी के उपलक्ष्य में आयोजित गायत्री महायज्ञ का धार्मिक कार्यक्रम दसवें दिन भी भक्तिमय वातावरण में जारी रहा। ऊषा माता मंदिर प्रांगण में आज रविवार को सुबह 8 बजे हवन यज्ञ में आहुतियां डालते हुए भक्तजनों ने लोक कल्याण की कामना की। इस अवसर पर महंत साध्वानंद जी महाराज ने यज्ञ का महत्व बताते हुए कहा कि भागवत कथा का अनुसरण करने से प्राणी मात्र दुखों से मुक्ति पाकर प्रभु कृपा प्राप्त करता है। उन्होंने कहा कि जीवन में उस व्यक्ति पर ही प्रभु की कृपा होती है जो दूसरों के दुख-दर्द को अपना समझते हुए सदैव जरूरतमंदों की सेवा को सर्वोपरि मानता है। कभी भी किसी का बुरा करके अपना भला न करने की प्रेरणा देते हुए उन्होंने बताया कि भक्ति मार्ग ही हमें विभिन्न विकारों से दूर रख सकता है। इस लिए हर किसी को धार्मिक कार्यक्रमों में जरूर भाग लेना चाहिए। पूज्य श्री ने कहा कि सभी को जीवन में प्रभु के सिद्धांतों से जुड़े रह कर अच्छे काम करते रहना चाहिए। अच्छे संस्कारों तथा धर्म ग्रंथों के उपदेशों का अनुसरण करके प्रभु कृपा प्राप्त की जा सकती है।

इस अवसर पर मंदिर कमेटी के प्रधान जीत राम शर्मा, जगदीश चोपड़ा, पं. सुमित शर्मा, महेश सभ्रवाल, सतीश बत्तरा, विनोद मल्होत्रा, पंकज बत्तरा, शाम सुंदर, धर्मपाल, म¨हदर सिंह, बबलु कौशल, काता, संतोष कौशल, संतोष शर्मा, सुदेश, आशा रानी, सुमन रानी आदि सहित भारी संख्या में भक्तजन मौजूद थे।

Posted By: Jagran