जागरण संवाददाता, रूपनगर

जिले में कांग्रेस का भारत बंद का आह्वान आनंदपुर साहिब को अलग रखें , तो बाकी जगह फ्लॉप शो साबित हुआ। नंगल में काफी हद तक कांग्रेसियों ने बाजार बंद करवाए। रूपनगर में कांग्रेसियों को लोगों ने मुंह नहीं लगाया। कुछ दुकानदारों ने दुकानों के शटर गिरा दिए और कांग्रेसियों के जाते ही शटर उठा दिए। पेट्रोल एवं डीजल की कीमतों में इजाफे के विरोध में ऑल इंडिया कांग्रेस ने बंद का आह्वान दिया था, लेकिन यहां कांग्रेसियों ने ही दुकानें खुली रखी। हालात ये रहे कि दुकानदार वर्ग जो दिल से कांग्रेसी हैं, ने दुकानें बंद करवाने आए कांग्रेसियों के 13 सदस्यीय टीम को ये कहकर लौट दिया कि बाजार बंद करना है तो व्यापार साथ लाओ। व्यापार मंडल के बिना बाजार बंद करवाना आसान काम नहीं है, क्योंकि छोटा दुकानदार रोजाना कमाकर खाने वाला है , वो पेट्रोल-डीजल की कीमतों के इजाफे से दुखी तो है लेकिन काम बंद करके विरोध जताकर अपना नुकसान नहीं करना चाहता। उधर, कांग्रेसी कांग्रेस पार्टी ¨जदाबाद और मोदी सरकार मुर्दाबाद के नारे लगाते और दुकानदारों को अपील करते रहे कि दुकानें बंद कर दो लेकिन दुकानदार उन्हें दुकानें बंद करने के आश्वासन ही देते रहे। कुछेक ने शटर नीचे किए भी पर बाद में उठा दिए। एक जगह तो कांग्रेसियों को एक दुकानदार अश्वनी कुमार ने ये कहते हुए बेजवाब कर दिया कि मोदी के खिलाफ प्रदर्शन तो ठीक है पहले पंजाब सरकार का पेट्रोल डीजल पर लगने वाला भारी भरकम टैक्स तो माफ करवाओ, तभी ऐसे प्रदर्शनों का फायदा है। इधर, रूपनगर से विधानसभा चुनाव लड़ने वाले ब¨रदर ¨सह ढिल्लों ग्रुप के कांग्रेसियों जिनमें यूथ कांग्रेसी भी शामिल थे, ने रूपनगर में रोष मार्च करके रूपनगर अनाज मंडी में जाकर मोदी सरकार के खिलाफ पुतला फूंक प्रदर्शन किया। खास बात ये रही कि इस प्रदर्शन में नगर कौंसिल के पूर्व प्रधान अशोक वाही कांग्रेसियों द्वारा किए जा रहे प्रदर्शन में जाकर शामिल हो गए।

कांग्रेसी पहले 35 फीसद टैक्स राज्य सरकार से मुक्त करवाएं : माक्कड़ नगर कौंसिल के प्रधान परमजीत ¨सह माक्कड़ ने कहा कि पेट्रोल एवं डीजल पर 35 फीसद टैक्स पंजाब सरकार से पहले कांग्रेसी मुक्त करवाएं। कांग्रेसियों का बंद का आह्वान फेल हो गया। कांग्रेसी हमेशा से ही झूठ की राजनीति करते आए हैं। लोग इन्हें पहचान चुके हैं। हलका विधायकों की ड्यूटी लगाई थी पार्टी ने: ¨टकू जिला कांग्रेस के प्रधान विजय शर्मा ¨टकू ने कहा कि पार्टी प्रधान सुनील जाखड़ ने हलका विधायकों की ड्यूटी लगाई गई थी कि वो बंद को लोगों का समर्थन दिलाए तथा इसे सफल बनाए। वो खुद मो¨रडा में बाजार बंद में व्यस्त रहे। हलका वाइस जो नेता हैं वो ही जवाब दे सकते हैं कि क्यों बंद मुकम्मल नहीं हो पाया। लेकिन रूपनगर, आनंदपुर साहिब तथा मो¨रडा में तो बंद रहा। दुकानदारों को जबरदस्ती बंद में शामिल करना उद्देश्य नहीं: ढिल्लों पंजाब कांग्रेस के प्रवक्ता तथा कांग्रेस टिकट से रूपनगर से चुनाव लड़ने वाले ब¨रदर ¨सह ढिल्लों ने कहा कि रूपनगर हलके में दुकानदार वर्ग बहुत बड़ा सरमायेदार नहीं है जिसे बंद से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। हां, लोगों के दिलों में पेट्रोल तथा डीजल की कीमतों के बढ़ने के कारण केंद्र सरकार के खिलाफ बहुत गिस्सा है। लेकिन वो जबरदस्ती दुकानदारों की एक दिन की रोजी नहीं छीनना चाहते थे।

Posted By: Jagran