संवाद सूत्र, मोरिडा: चंडीगढ़-लुधियाना नेशनल हाईवे के निर्माण के कारण साथ लगते दो गांवों के बरसात के पानी की निकासी बंद हो गई। इससे किसानों की करीब 70 एकड़ में खड़ी फसल भी खराब हो गई। किसानों का कहना कि उन्होंने इस बारे में प्रशासन से शिकायत भी की, पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई। पूर्व सरपंच सवरन सिंह बूथगढ़, किसान चरन सिंह, सुल्लखन सिंह, परविदर सिंह व कुलवंत सिंह बल्ला ने कहा कि नेशनल हाईवे के निर्माण के दौरान ठेकेदार ने सड़क के एक तरफ मिट्टी डालकर उनके गांवों के बरसाती पानी की निकासी बंद कर दी। जिस कारण बरसात के मौसम में पानी जहां घरों में घुस जाता है, वहीं किसानों के खेतों में फसलें भी खराब हो रही हैं। पिछले दिनों हुई बारिश के कारण किसानों की 70 एकड़ के करीब फसल खराब हो चुकी है। इस समस्या को लेकर दोनों गांवों के किसानों और पंचायत सदस्यों ने नेशनल हाईवे अथॉरिटी, डीसी और एसडीएम दफ्तर में कई बार लिखित शिकायतें दीं, लेकिन अब तक कोई हल नहीं हुआ। उन्होंने जिला प्रशासन को चेतावनी दी कि अगर उनकी परेशानी का कोई हल नहीं हुआ, तो वह किसान यूनियन के नेताओं के साथ प्रशासन के खिलाफ संघर्ष करेंगे। वहीं इस मामले में

एसडीएम मोरिडा हरबंस सिंह ने बताया कि इस समस्या के समाधान के लिए नेशनल हाईवे अथॉरिटी के अधिकारियों को लिखा जाएगा। लोगों की परेशानी का हल करवाना उनकी प्राथमिकता है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!