जागरण संवाददाता, पटियाला : थाना अर्बन एस्टेट पुलिस द्वारा अर्बन एस्टेट बाईपास के नजदीक रोड पर कोरोना टेस्ट के लिए लगाए नाके से गुजर रहे बाइक सवार दो युवकों ने वालंटियर को टक्कर मार दी। हादसे में वालंटियर सहित तीन लोग जख्मी हुए, जिन्हें अस्पताल में दाखिल करवाया। बाइक सवार एक युवक की हालत गंभीर होने पर निजी अस्पताल के बाद राजिदरा अस्पताल में रेफर कर दिया। घटना शनिवार दोपहर 12 बजे के बाद की है, जिसके बाद मौके पर खड़े लोगों ने हंगामा करना शुरू कर दिया। हंगामा होता देख कैंप लगाने वाली मेडिकल टीम व पुलिस टीम मौके से खिसक गई। जख्मी हुए पुलिस वालंटियर की पहचान गुरप्रीत सिंह निवासी गुरु नानक नगर के रूप में हुई है। देर शाम तक बाइक सवार युवकों का इलाज चल रहा था। वहीं मौके पर तैनात एएसआइ हुक्म चंद ने कहा कि बाइक सवार युवकों की नशे की हालत में होने की वजह से यह हादसा हुआ है। यह है पूरा मामला

घटना के अनुसार सेहत विभाग की तरफ से परमिदर सिंह व उनकी मेडिकल टीम ने अर्बन एस्टेट बाईपास के नजदीक मैरिज पैलेस के बाहर रोड पर ही कैंप लगा रखा था। यहां पर पुलिस व वालंटियर रास्ते से गुजरने वाले बाइक सवारों को रोककर उनका कोरोना टेस्ट करवा रहे थे। इसी दौरान राजपुरा साइड से एक बाइक पर सवार दो युवक आए, जिन्हें एएसआइ हुक्म चंद ने रुकने का इशारा किया। इन युवकों की बाइक कंट्रोल नहीं हुई और आगे खड़े वालंटियर ने रोकने की कोशिश की तो उसके साथ टक्कर हो गई। हादसे के बाद बाइक सवार दोनों युवक व वालंटियर लहूलुहान हो गए। पुलिस ने जख्मियों की मदद करते हुए नजदीकी अस्पताल में दाखिल करवाया। इस दौरान मौके पर खड़े लोगों ने पुलिस नाके का विरोध करते हुए हंगामा शुरू किया तो मेडिकल टीम अपनी गाड़ी में बैठ मौके से खिसक गए। वालंटियर की गलती से हुआ हादसा : दीप सिंह

मौके पर खड़े राहगीर दीप सिंह ने कहा कि नाके पर पुलिस लोगों को जबरन रोककर उनका कोरोना टेस्ट करवा रही थी। इस दौरान बाइक सवारों को एएसआइ ने रोकने की कोशिश की लेकिन बाइक तेज थी। आगे खड़े वालंटियर ने जबरदस्ती बाइक पर हाथ डाला, जिस वजह से बाइक सवार हादसाग्रस्त हो गए। दीप सिंह ने कहा कि चलती रोड पर इस तरह से पुलिस का नाका लगा कोरोना टेस्ट करवाने का तरीका सही नहीं है। नशे की हालत में थे दोनों युवक : हुक्म चंद

एएसआइ हुक्म चंद ने कहा कि दोनों युवक नशे की हालत में थे। युवकों ने खुद बताया कि वे लोग चिट्टा पीने के बाद घर लौट रहे थे। फिलहाल इन लोगों को अस्पताल में दाखिल करवा मेडिकल करवा रहे हैं ताकि अगली कार्रवाई की जा सके।