जागरण संवाददाता, पटियाला : कारोबार में तरक्की व बीमारी ठीक करने के झांसे में लेने के बाद महिलाओं की बालियां लेकर फरार होने वाले ठग बाबा ने दस महीने पहले भी नाभा रोड पर भी वारदात की थी। यहां पर एक महिला की जोड़ों के दर्द ठीक होने का इलाज करने के बहाने उसकी बालियां उतारने के बाद पोटली में बांधकर खाली रुमाल देकर फरार हो गए थे। इस महिला को सोने के गहने माफिक न होने की झूठी कहानी बनाकर ठगा था।

यह ठग बाबा एक महिला व दो चेलों के साथ जिले में सक्रिय है, उस समय हरी कला नामक महिला निवासी अबलोवाल ने चौकी माडल टाउन में शिकायत दर्ज करवाते हुए सीसीटीवी फुटेज भी पुलिस को सौंपी थी। यह केस आज भी अनट्रेस है, जबकि पुलिस के पास सीसीटीवी फुटेज व आरोपितों की चेहरे की तस्वीर पहुंच गई थी। अब इस गिरोह ने भादसों में अजनौदा कलां निवासी किरयाना कारोबारी रूप सिंह को ठग लिया है। थाना भादसों के इंचार्ज सुखदेव सिंह ने कहा कि सीसीटीवी फुटेज की मदद से भादसों में ठगी करने वाले बाबा को ट्रेस करने की कोशिश की जा रही है, जल्द ही आरोपित गिरोह काबू कर लेंगे। भादसों में ऐसे लूटा किरयाना व्यापारी को

30 सितंबर को ठग बाबा अपने गिरोह के साथ दो बाइक पर सवार होकर रूप सिंह निवासी अजनौदा कलां की दुकान पर आया था। तीस सितंबर की सुबह पहले एक व्यक्ति बाबा के डेरे का पता पूछने के बाद पांच रुपये की टाफियां खरीदने के बाद लौट गया और उसने दुकान पर बैठे रूप सिंह व उसकी पत्नी की गतिविधियों की रेकी कर ली। इसके कुछ देर बाद बाबा अपने साथी के साथ पहुंचा और किरयाना के दुकान में तरक्की करवाने के लिए मंत्र देने की बात कही। इसके बाद 15 मिनट तक वह दंपती को बातों में उलझाने के बाद महिला के कानों की बालियां निकलवाकर रुमाल में बंधवा दी और इस पर मंत्र फूंकने का नाटक कर रुमाल लौटा दिया। इन लोगों के लौटने के बाद दंपती ने रुमाल खोला तो बालियां गायब थी। रूप सिंह ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवा दी तो पुलिस ने करीब दो हफ्ते तक अजनौदां कलां व आसपास के गांवों की सीसीटीवी फुटेज खंगालने के बाद आरोपितों की सीसीटीवी जुटाकर केस दर्ज कर लिया है। अकेली महिला को बनाते हैं शिकार

यह ठग बाबा का गिरोह रास्ते में पैदल जाने वाली महिलाओं की रेकी करता है और उनके पहने गहनों पर नजर रखते हैं। गहने कंफर्म होने के बाद पहले बाबा की एंट्री होती है, जो लोगों को बातों में उलझाता है। इसके बाद महिला व उसका साथी कहानी में दाखिल होते हैं, जो बाबा पर भरोसा दिखाते हुए शिकार को जाल में फंसाकर लूट लेते हैं।

Edited By: Jagran