फोटो 62

जेएनएन. पटियाला

सरकारी स्कूलों में पढ़ते 12 लाख से ज्यादा गरीब बच्चों को अधिक पड़ रही सर्दी में अभी तक पंजाब सरकार की तरफ से सर्दियों की वर्दियां न मिलने के कारण आने वाले दिनों में यह मामला सरकार को कसमकश में डाल सकता है। पंजाब के एससी भाईचारों के नेता और एससी/बीसी इंप्लाइज फेडरेशन पंजाब के उप प्रधान डॉ. ज¨तदर ¨सह मट्टू ने पंजाब विधानसभा के डिप्टी स्पीकर अजायब ¨सह भट्टी को पंजाब सरकार से इस मामले पर दखलअंदाजी करके गरीब बच्चों की खबर लेने के लिए एक मांगपत्र सौंपा।

एससी भाईचारे के नेता डॉ. जतिन्दर ¨सह मट्टू ने कहा कि सबसे ज्यादा एससी जनसंख्या वाले पंजाब में सरकारी स्कूलों में अनुसूचित जातियों और पिछड़ीं श्रेणियों के गरीब विद्यार्थी शिक्षा हासिल कर रहे हैं। दिसंबर महीने के अंत में शुरू हुई अत की ठंड में विद्यार्थियों के पास ढंग का न तो जर्सियां है न ही बूट जुराबें। पंजाब सरकार की तरफ से इन बच्चों को यूनिफार्म देने के लिए पहले स्कूलों को 400 रुपये प्रति बच्चा के हिसाब के साथ पैसे मुहैया करवाए जाते थे। इसके तहत बच्चे को गर्म जर्सी, गर्म टोपी, बूट जुराबों और पेंट शर्ट उपलब्ध करवाई जाती थी। डॉ. ज¨तदर ¨सह ने कहा कि इन पैसों में इजाफा करने की बजाय सरकार ने बच्चों के खातों में यह पैसे ट्रांसफर करने की योजना बनाई है। अभी तक किसी भी बच्चों के खातों में एक पैसा भी नहीं आया। ज¨तदर ¨सह ने पंजाब विधानसभा के डिप्टी स्पीकर अजायब ¨सह भट्टी से मांग की है कि सरकार से तत्काल बच्चों के खातों में 400 रुपए की जगह कम से कम एक हजार रुपये वर्दियों के दिए जाएं। जिससे एससी बच्चों साथ-साथ ओर वर्गों के गरीब बच्चे ठंड से बचने के लिए गर्म वर्दियां खरीद सकें।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!