जागरण संवाददाता, पटियाला

सरकारी मेडिकल कालेज, डेंटल कालेज, राजिदरा अस्पताल और टीबी अस्पताल के कांट्रेक्ट-आउटसोर्स, मल्टीटास्क और कोरोना योद्धाओं ने पक्के होने की मांग को लेकर बुधवार को राजिदरा अस्पताल से लेकर लीला भवन तक न केवल बर्तन खड़काते हुए रोष मार्च किया, बल्कि चौक पर करीब आधा घंटे तक जाम भी लगाया। इस दौरान लोगों को माल रोड व लीला भवन चौक के जरिए आने जाने वाले रास्तों से गुजरने में काफी दिक्कत झेलनी पड़ी।

दर्जा चार कर्मचारी यूनियन के प्रधान राम किशन व ज्वाइंट एक्शन कमेटी के प्रधान स्वर्ण सिंह बंगा ने बताया कि कच्चे कर्मचारी पिछले लंबे समय से पक्का होने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, लेकिन सरकार सुनवाई नहीं कर रही। बुधवार को मुलाजिमों ने लीला भवन चौक में आधा घंटा जाम लगाया। नेताओं ने कहा कि विभाग के मंत्री ओपी सोनी के साथ तीन बार मांगों पर बातचीत हो चुकी है, लेकिन कोई हल नहीं निकला।

उन्होंने कहा कि दो सितंबर को कोरोना योद्धा पीपीई किट डालकर सरकारी और अर्ध सरकारी विभागों के कर्मचारियों को साथ लेकर शहर में रोष मार्च करते माता कौशल्या अस्पताल कांप्लेक्स और सिविल सर्जन आफिस के सामने रैली करेंगे। यदि सरकार ने अपने आखिरी बजट सेशन के एजेंडे में कर्मचारियों की मांगों को शामिल न किया तो कामछोड़ हड़ताल को जारी रखेंगे। इस मौके रत्न कुमार, अरुण कुमार, राजेश कुमार गोलू, अजय कुमार सीपा, अमन कुमार, गगनदीप कौर, चरनजीत कौर, संदीप कौर, गुरलाल सिंह, कुलविदर सिंह, किशोर कुमार टोनी, प्रदीप कुमार आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran