जेएनएन, पठानकोट/माधोपुर/बमियाल। लखनपुर में वीरवार सुबह हथियारों सहित पकड़े गए तीन आतंकवादी ट्रक लेकर माधोपुर बैरियर से नहीं गुजरे थे। आतंकियों ने पठानकोट-जम्मू-कश्मीर की सीमा पर दीनानगर से बमियाल के संपर्क मार्गों को चुना था। आशंका है कि आतंकी इस क्षेत्र से अच्छी तरह वाकिफ थे। उन्हें पता था कि सीमा पर कौन-कौन से संपर्क मार्गों पर पुलिस का नाका और सीसीटीवी कैमरा नहीं होगा।

दीनानगर-तारागढ़-बमियाल-नरोट जैमल सिंह से होकर जम्मू-कश्मीर में प्रवेश करने के चार संपर्क मार्ग हैं। स्थानीय लोग इन रास्तों का प्रयोग करते हैं। पठानकोट पुलिस को अब तक सिर्फ इतना पता है कि आतंकी माधोपुर नाके से नहीं गुजरे। दीनानगर से बमियाल होते हुए आतंकियों ने किस रूट को चुना इसकी सही जानकारी पठानकोट पुलिस को इतना समय बीत जाने के बाद भी नहीं है। गौरतलब है कि जनवरी 2016 में एयरफोर्स स्टेशन पर हमले से पहले भी आतंकियों ने दीनानगर और बमियाल सेक्टर के रास्तों को ही चुना था।

बमियाल सेक्टर से होकर गुजरने के पीछे ये हैं कारण

  • ग्रामीण क्षेत्र है। अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे होने के कारण सड़कों की हालत बहुत अच्छी न होने के कारण कोई आने-जाने वाले वाहनों पर ध्यान नहीं देता।
  • इन रास्तों पर रूटीन जांच नहीं होती। कभी कभार बड़ा मामला होने पर नाके लगाकर चेकिंग की जाती है।
  • पुलिस का नाका कहां लगा है इसकी जानकारी इन क्षेत्रों में आसानी से जुटाई जा सकती है।

इन चार संपर्क मार्गों के प्रयोग की आशंका

  • दीनानगर -तारागढ़-बमियाल - नरोट जैमल सिंह संपर्क मार्ग कठुआ के पास निकलता है।
  • दीनानगर- तारागढ़ -बमियाल - उज्ज पुल के रास्ते होते हुए कठुआ के पास निकलता है।
  • सुंदरचक्क से रावी दरिया का कीड़ी गंडियाल पुल से कठुआ सिटी में मिलता है।
  • दीनागनर-तारागढ़-बमियाल -पंडोरी में उज्ज दरिया से कठुआ।

बमियाल व नरोट जैमल सिंह में की नाकाबंदी

नरोट जैमल सिंह, बमियाल से होकर जम्मू कश्मीर जाने वाले मार्गों पर शुक्रवार को पुलिस ने नाकाबंदी कर वाहनों की तलाशी ली। माधोपुर नाके पर भी सिर्फ जम्मू से आने वाले वाहनों की जांच की गई। जाने वाले वाहनों को चेक नहीं किया।

सुरक्षा एजेंसियों ने डाला डेरा, पठानकोट पुलिस से चूक

पठानकोट में पुलिस के आला अधिकारियों सहित आइबी, सेना की सुरक्षा एजेंसियों ने डेरा जमाया हुआ है। डीजीपी दफ्तर की ओर से निर्देश के बाद यह भी जांच की जा रही है कि पठानकोट पुलिस से किस स्तर पर चूक हुई है। मामले की तफ्तीश के लिए जम्मू-कश्मीर के कठुआ की दो टीमें भी पठानकोट, गुरदासपुर और अमृतसर में जांच में जुटी हैं।

कठुआ पुलिस का ऑपरेशन, हमें जानकारी नहीं : एसएसपी

एसएसपी दीपक हिलोरी का कहना है कि यह ऑपरेशन कठुआ पुलिस का है। वही बता सकते हैं कि आतंकी किस रास्ते से आए थे। नाकेबंदी कर वाहनों की तलाशी ली जा रही है। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!