Move to Jagran APP

सनी देओल को मिली वाई सिक्योरिटी, पठानकोट आवास के पास भी बढ़ी सुरक्षा, जानें क्या है वजह

फिल्म अभिनेता व गुरदासपुर के सांसद सनी देओल को वाई श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की गई है। उन्हें यह सुरक्षा केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दी है। इसके बाद सनी के पठानकोट स्थित आवास पर अतिरिक्त सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं।

By Kamlesh BhattEdited By: Published: Thu, 17 Dec 2020 09:37 AM (IST)Updated: Thu, 17 Dec 2020 10:22 AM (IST)
फिल्म अभिनेता व गुरदासपुर के सांसद सनी देओल की फाइल फोटो।

जेएनएन, पठानकोट। गुरदासपुुर के भाजपा सांसद व फिल्म अभिनेता सनी देओल (Sunny Deol) की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने भाजपा सांसद सनी देओल को वाई श्रेणी की सुरक्षा मुहैया करवाई है। अब उनकी सुरक्षा व्यवस्था में पंजाब पुलिस के नौ व सीआइएसएफ के दो जवान तैनात रहेंगे। दो अलग से पीएसओ (व्यक्तिगत सुरक्षा अधिकारी) भी तैनात रहेंगे।

सनी देओल के पठानकोट स्थित आवास पर भी नफरी को बढ़ा दिया गया है। पिछले दिनों सांसद सनी देओल ने किसान आंदोलन को केंद्र व किसानों के बीच का मामला बताया था और बिल का समर्थन किया था। पार्टी पदाधिकारियों का कहना है कि सनी देओल की सुरक्षा कृषि सुधार कानून की वजह से नहीं बल्कि आइबी से मिले इनपुट के बाद बढ़ाई गई है।

भाजपा के प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य विपिन महाजन का कहना है कि कोरोना संक्रमित होने के बाद सनी देयोल अभी मनाली में ही हैंं। तीन दिन बाद उनका क्वारंटाइन पीरियड खत्म होगा, जिसके बाद वह सीधा मुंबई जाएंगे। अभी वे पंजाब नहीं आएंगे। 

बता दें, 6 दिसंबर को सांसद सनी देओल ने किसान आंदोलन के लिए ट्विटर पर टिप्पणी की थी। उन्होंने लिखा कि यह सरकार व किसानों के बीच का मामला है। इसके बीच किसी को नहीं आना चाहिए, क्योंकि दोनों (सरकार व किसान) आपस में बातचीत कर इसका हल निकाल लेंगे। सनी ने लिखा कि वह जानते हैं कि कई लोग इसका फायदा उठाना चाहते हैं और वह अड़चन डाल रहे हैं। वह किसानों के बारे में नहीं सोच रहे। उनका अपना कोई स्वार्थ हो सकता है। किसान इस बात से नाराज हैं कि सनी ने सीधे-सीधे उनके आंदोलन का समर्थन नहीं किया है। हालांकि अपने ट्वीट में सनी ने उनकी मांगों का विरोध भी नहीं किया है। उन्होंने स्पष्ट लिखा है कि यह सरकार और किसानों के बीच का मामला है। 

यह भी पढ़ें : पंजाब में 3 SP व 2 DSP सहित 925 पुलिसकर्मियों पर हैं केस दर्ज, सरकार ने हाई कोर्ट में दी जानकारी

यह भी पढ़ें : किसान आंदोलन के कारण पंजाब में पटरी से उतरने लगे उद्योग, कच्चा माल न मिलने से उत्पादन ठप


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.