जागरण संवाददाता, पठानकोट : पठानकोट-जोगिंदर नगर नैरोगेज रेल सेवा 10 से 17 मई तक बंद रहेगी। इस बात की पुष्टि फिरोजपुर रेल डिवीजन के रेल मैनेजर राजेश अग्रवाल ने की। उन्होंने बताया कि हिमाचल प्रदेश सरकार ने बढ़ते संक्रमित मामलों को देखते हुए प्रदेश में 9 मई से 17 मई तक संपूर्ण लाकडाउन लगाया है, जिसके चलते रोजाना चल रही दो ट्रेनों को भी चला पाना मुश्किल है। इसी बात को देखते हुए उक्त नैरोगेज सेक्शन को 17 मई तक बंद कर दिया गया है।

इधर, जहां पहले चौबीस घंटा चहल-पहल रहती थी वहां अब चौबीस लोग भी नहीं दिखाई दे रहे। जो लोग आ रहे हैं वह एक दूसरे से इतना पहरेज कर रहे हैं कि उससे बात करना तो दूर की बात उसके पास बैठना भी सुरक्षित नहीं समझ रहे। हम बात कर रहे हैं शहर के मुख्य बस स्टैंड की। दो दिवसीय लाकडाउन के पहले दिन यहां रोडवेज ने 22 बसें चलाकर लोगों को थोड़ी बहुत राहत पहुंचाई थी, वहीं रविवार को यह सर्विस और कम होकर मात्र 15 रूट तक ही सिमट गई। शनिवार की तुलना रविवार को न मात्र ही लोग दिखे।

रविवार को बस स्टैंड के कुल 22 कांउटरों में से मात्र एक काउंटर पर ही बस लगी हुई थी। बाकी के सारे काउंटर खाली थे। पठानकोट से केवल चंबा के लिए एक ही बस काउंटर पर थी। उक्त बस को डिपो ने भेज तो दी, परंतु उसे हिमाचल में लाकडाउन होने की वजह से वापस आने के लिए कहा दिया गया। प्राइवेट बसों का हाल भी कुछ इसी प्रकार था। अमृतसर के लिए रोजाना चलने वाली 50 बसों की सर्विस में से मात्र 10 बसें ही गई। जालंधर की 35 बसों में से छह बसें ही चल पाई। प्राइवेट आप्रेटरों ने कहा कि सरकारी को तो उतना फर्क नहीं पड़ता लेकिन, प्राइवेट के लिए तेल व टैक्स का खर्च ही निकाल पाना मुश्किल है। इसलिए, बस को रुट पर भेजने की बजाय खड़ा करना ही ठीक है।

उधर, पंजाब रोडवेज पठानकोट डिपो के ड्यूटी इंस्पेक्टर अशोक कुमार से बात की तो उनका कहना था कि रविवार को चंडीगढ़ के 4, दिल्ली के 2 व अमृतसर के 9 रूट ही चल पाए। जबकि, हिमाचल प्रदेश के चंबा के लिए एक बस को भेजा गया परंतु वहां लाकडाउन लग जाने के कारण उसे बीच रास्ते वापस आ जाने के लिए कह दिया गया।

...................

रविवार को इतने रूट गए

मंजिल कुल रूट रूट चले

-अमृतसर 30 9

-चंडीगढ़ 14 4

-दिल्ली 11 2

-जालंधर 11 0

-लुधियाना 4 0

-हिमाचल 2 1 (बीच रास्ते वापस बुलाया)

लोकल रुट 12 0

Edited By: Jagran