जेएनएन, पठानकोट। Corona virus curfew in Punjab: कोरोना वायरस के संक्रमण के कारण पूरे देश में लॉकडाउन है तो पंजाब में कर्फ्यू। लेकिन, कुछ लोग कर्फ्यू में भी गलत काम करने से बाज नहीं आ रहे। अब तीन युवकों को ही देख लीजिए। जिस एंबुलेस को देखते ही लोगों के मन में यह भाव पैदा होता है कि इसे रास्ते दे दो, क्योंकि न जाने कौन बीमार इसमें सवार होगा। यह शातिर उसी एंबुलेंस का प्रयोग कर नशे का कारोबार कर्फ्यू में भी जारी रखे हुए हैं। गनीमत है कि पुलिस को उनके इस कृत्य की भनक लग गई। तीनों को गिरफ्तार लिया गया है। 

एंबुलेस में नशा करने वाले आरोपितों की पहचान राजेश मसीह, विकास चंद्र तथा आकाश कुमार निवासी न्यू बस्ती धक्का कालोनी डमटाल, हिमाचल प्रदेश के रूप में हुई है। तीनों आरोपितों प्राइवेट एंबुलेस चलाते हैं तथा सिविल अस्पताल सहित विभिन्न प्राइवेट अस्पतालों से मरीज लेकर जाते हैं।

डीएसपी सिटी राजेंद्र मन्हास ने बताया कि थाना डिवीजन नंबर 2 पुलिस के एएसआइ बलवीर सिंह, एएसआइ रमेश कुमार के साथ सिटी में तैनात थे। इसी दौरान पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि हिमाचल प्रदेश स्थित नशे के गढ़ छन्नी बेली से कुछेक युवक एंबुलेंस में नशा सामग्री लेकर पठानकोट में सप्लाई देने आ रहे हैं।

इसी पर पुलिस की ओर से जब इन युवकों को रोककर उनकी एंबुलेंस की तलाशी ली गई तो यह पुलिस पार्टी को देखकर डर गए। पुलिस ने जैसे ही आरोपित आकाश कुमार तथा राजेश मसीह की की तलाशी ली गई तो इनकी पैंट की जेब से पुलिस को 3-3 ग्राम हेरोइन तथा विकास की जेब से चार ग्राम हेरोइन, कुल 10 ग्राम नशा बरामद हुआ।

पुलिस युवकों से पूछताछ में जुटी है। उनसे पूछा जा रहा है कि वह हेरोइन कहां से लेकर आए। पुलिस को आशंका है कि कहीं और भी जगहों पर एंबुलेंस की आड़ में लोगों की आंख में धूल झोंककर नशे का काला कारोबार तो नहीं किया जा रहा है। 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Kamlesh Bhatt

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!