योगेश मल्होत्रा, बलाचौर : बलाचौर तहसील के लोगों को पिछले कुछ समय से काफी परेशानी का सामना देखने को मिल रहा है। बलाचौर तहसील में पटवारियों द्वारा एडिशनल सर्किल का काम न करना इसका मुख्य कारण है। पिछले समय में जब पटवारियों द्वारा हड़ताल की गई थी, तो जब संबंधित मंत्री के साथ फैसला लिया गया था कि पटवारी सिर्फ अपने सर्किल का काम करेंगे और शेष सर्कलों का काम छोड़ देंगे। सरकार और पटवारियों के बीच चल रही इस खींचतान में आम लोगों को बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

बलाचौर तहसील में काम करवाने आए हैप्पी, सुरेश, मनोज, जोगिदर सिंह, सतनाम सिंह, परमिदर सिंह, त्रलोचन सिंह, संतोष कुमारी ने बताया कि वह सोमवार को बलाचौर तहसील में अपनी रजिस्ट्री करवाने आए थे। अपना सभी काम छोड़कर रजिस्ट्री करवाने के लिए जब वह तहसील पहुंचे तो पटवारियों द्वारा एडिशनल सर्किल का काम न करने की बात का पता चला, जिस कारण उनकी रजिस्ट्री नहीं हुई। आम लोगों को इस फैसले से काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। इसके साथ-साथ इनकम सर्टिफिकेट, विधवा पेंशन आदि कामों के लिए भी जो लोग तहसील आ रहे हैं, उन्हें भी काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

48 सर्किल में हैं सिर्फ 8 पटवारी

इस संबंध में पटवारी यूनियन के प्रधान मनोहर लाल ने बताया कि बलाचौर तहसील में कुल 48 सर्किल है और काम करने वाले पटवारी सिर्फ 8 हैं, एक पटवारी के पास एवरेज करीब 6 सर्किल है। एक पटवारी के पास एक सर्कल के काम के लिए 2 दिन चाहिए, तो सात दिनों में पटवारियों को 6 सर्किल देखने का काम कैसे होगा?

पटवारियों की समस्याओं पर ध्यान नहीं

पटवार यूनियन के पदाधिकारियों का कहना है कि पटवारियों की कमी के साथ-साथ कानूनगो भी सिर्फ तीन ही है। पटवार यूनियन बलाचौर द्वारा कभी भी लोगों को मुश्किल नहीं आने दी गई, लेकिन सरकार द्वारा पटवारियों की समस्याओं की तरफ बिल्कुल ध्यान नहीं दिया जा रहा तथा न कोई भर्ती की जा रही है।

जल्द होगा समस्या का समाधान

इस संबंध में जब विधायक बलाचौर संतोष कटारिया ने कहा कि जल्द इस समस्या से लोगों को निजात दिलाई जाएगी। वह संबंधित मंत्री से इस संबंध में बात करेंगे, ताकि लोगों को किसी भी तरह की परेशानी न आए।

Edited By: Jagran