जेएनएन, बंगा। पंजाब में विदेश जाने के चक्कर में परिवार के परिवार तबाह हो रहे हैं। कई मामलों में दूल्हे गच्चा दे रहे हैं तो कई में दुल्हनें शातिर खेल खेल रही हैं। ताजा मामला एक ऐसी ही NRI दुल्हन का है। उसने पति व सास-ससुर को ऐसा ठगा कि वह समाज के सामने असहाय हो गए। आखिरकार तीनों ने जहर निगलकर आत्महत्या कर ली।

घटना थाना बहराम के अंतर्गत आते गांव घुम्मणा की है। तीनों को इलाज के लिए फगवाड़ा ले जाया गया था, जहां परिवार के तीनों सदस्य प्रिंस, उसके पिता सोढ़ी राम व माता महिंदर कौर कौर की मौत हो गई। थाना बहराम की एसएचओ नरेश कुमारी ने बताया की इस संबंध में 174 के तहत करवाई कर शव वारिसों के हवाले कर दिया गया है।

प्रिंस की बहन सरिता रानी ने बताया की उसके भाई की शादी दो महीने पहले किरणदीप कौर के साथ हुई थी। NRI किरणदीप पटियाला की रहने वाली है और अब कनाडा में रहती है। दोनों की कोर्ट मैरिज हुई थी। शादी के दौरान किरणदीप ने कहा था कि वह उसके भाई व उसके माता पिता को कनाडा लेकर जाएगी।

सरिता ने बताया कि 21 जून को तीनों ने कनाडा जाना था। इसके लिए दिल्ली से फ्लाइट पकड़नी थी। प्रिंस व उसके परिजनों ने विदेश जाने के लिए 70 -80 लाख रुपये रिश्तेदारों व जानकारों से लेकर बहू को दिए थे। किरणदीप ने कहा था कि उससे शादी की वजह वहां की नागरिकता मिल जाएगी।

पत्नी के चक्कर में कपड़ों के अलावा अपना सब कुछ बेच चुका था प्रिंस

इस घटना के बाद से पूरा गांव सकते में है। NRI किरणदीप कौर ने प्रिंस व उसके माता-पिता को कनाडा ले जाने के सपने दिखाए। पूरा परिवार उसके झांसे में आ गया। प्रिंस और उसके परिवार ने अपनी आई-20 कार, बुलेट मोटर साइकिल, घर और कपड़ों के अलावा सारा जरूरत का सामान तक बेच दिया था। जहां परिवार कनाडा में बसने के सपने देख रहा थे।

वहीं किरण दीप इस परिवार को ठगने का पूरा प्लान तैयार कर चुकी थी। किरण ने सपने दिखाए कि 21 तारीख को दिल्ली में उन्हें ट्रैवल एजेंट से टिकट व पासपोर्ट लेना है। उनके वीजा काम हो चुका है, लेकिन उनके जाने से एक दिन पहले ही अपनी और अपने भाई की मौत की झूूठी खबर भेज दी।

गांव में रहने वाले मोहन लाल ने बताया कि प्रिंस ने अपने रिश्तेदारों से रुपये ले कर किरण को दिए थे। प्रिंस व उसके माता पिता 21 जून का इंतजार क रहे थे। कि 20 जून को फ़ोन आया कि उनकी बहू और किरणदीप के भाई की टोरंटो में सड़क दुर्घटना में मौत हो गई। मौत की खबर से वे लोग परेशान हो गए थे।

पूरा परिवार शोक में डूबा था कि उन्हें पता चला कि किरणदीप व उसका भाई जिंदा हैं। टोरंटो में उनके साथ कोई हादसा नहीं हुआ है। उनके साथ धोखा हुआ है। इसकी जानकारी उनके कुछ संबंधियों को भी हो गई, जिससे उन्होंने रुपये लिए। रुपये न मिलने की सूरत को देखते हुए संबंधियों व जानकारों ने फगवाड़ा पुलिस से इसकी शिकायत की। इससे दबाव में प्रिंस उसके पिता व माता ने जहरीली दवा निगल ली।

धोखेबाजी के खेल में ट्रैवल एजेंट भी है शामिल

प्रिंस व उसके परिवार के साथ हुई धोखेबाजी में दिल्ली का एक ट्रैवल एजेंट भी शामिल है, जिसके साथ मिलकर किरणदीप ने ये रुपये ठगे थे। कनाडा जाने से पहले किरणदीप ने प्रिंस व उसके परिजनों का पासपोर्ट दिल्ली के ट्रैवल एजेंट को दे दिया था। गांव के लोगों के मुताबिक यदि मामले की जांच तो बड़ा खुलासा हो सकता है।

कई लोगों को भी कनाडा ले जाने का दिया गया था झांसा

किरणदीप व उसके साथी ट्रैवल एजेंट ने अकेले प्रिंस व उसके परिजनों को धोखा नहीं दिया। बल्कि कई लोगों को शिकार बनाया गया है। गांव के लोगों के मुताबिक प्रिंस ने अपने संबंधियों से रुपये भी लिए थे। विदेश जाने के लिए वह लोग भी किरणदीप व ट्रैवल एजेंट के झांसे में आए गया था। प्रिंस एक बार कनाडा भी हो आया था।

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

 

Posted By: Kamlesh Bhatt

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!