जागरण संवाददाता,नवांशहर:

पंजाब गवर्नमेंट डाक्टर तालमेल कमेटी के आह्वान पर डाक्टरों द्वारा सोमवार को छठे पे कमिशन की सिफारिशों के खिलाफ हड़ताल की गई। इस दौरान डाक्टरों की ओर से सिविल सर्जन दफ्तर के बाहर धरना देकर प्रदेश सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की गई। डाक्टरों ने कहा कि वे पिछले कई दिनों से छठे वेतन आयोग की सिफारिशों के खिलाफ अपनी मांगों को लेकर हड़ताल कर रहे हैं। लेकिन प्रदेश सरकार की ओर से उनके हड़ताल पर किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं दी गई है। जिसके कारण डाक्टरों में रोष बढ़ता जा रहा है। इस दौरान धरने को संबोधित करते हुए पीसीएमएस एसोसिएशन के जिला प्रधान डा. निरंजन पाल , डा. सतविदर पाल सिंह व डा. अजय बसरा ने कहा कि छठे वेतन आयोग की नकारात्मक सिफारिशों के खिलाफ पिछले कई दिनों से डाक्टरों द्वारा हड़ताल की जा रही है। उन्होंने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि यदि डाक्टरों की मांगों पर ध्यान नहीं दिया गया तो वे अपने संघर्ष को और तेज कर देंगे।

उन्होंने कहा कि डाक्टरों ने कोरोनाकाल में अपनी जान की परवाह छोड़ कर दिन रात लोगों की सेवा की। ऐसे में डाक्टरों की मांगों को लेकर प्रदेश सरकार का यह रवैया डाक्टरों को अपमानित करने जैसा लग रहा है। इस मौके पर डा. गुरपाल कटारिया, डा. नवनीत कौर, डा. रीतू, डा. अमित सुनियारा, डा. निर्मल कुमार, डा. नीना शांत, डा. परमिदर सिंह, डा. सवरनजीत कुलार, डा. बरिदर पाल, डा. हरविदर कुमार, डा. हरपिदर सिंह, डा. हरतेश पाहवा, डा. राजिदर मागो, डा. पारुल, डा. मनप्रीत आदि मौजूद रहे।

Edited By: Jagran