जागरण संवाददाता, नवांशहर

कोविड-19 के बढ़ रहे मामलों के मद्देनजर केंद्र सरकार की टीम ने शुक्रवार को जिले की स्थिति की फिर से समीक्षा की है। बता दें कि दो माह में यह तीसरी बार है, जब केंद्रीय टीम जिले में कोविड की स्थिति की समीक्षा करने के लिए आई है। इस दौरान दो सदस्यीय केंद्रीय टीम के सदस्यों ने सिविल सर्जन डा. गुरदीप सिंह कपूर सहित सेहत विभाग के उच्च अधिकारियों के साथ कोविड-19 के बढ़ रहे मामलों के कारण, बचाव, उपचार और इसकी रोकथाम के लिए उठाए गए कदमों के बारे में बारीकी से बातचीत की।

केंद्रीय टीम में डा. रमेश चंद्र डिप्टी डायरेक्टर नेशनल सेंटर फार डिजीज कंट्रोल नई दिल्ली व डा. रितेश गुप्ता प्रोफेसर आफ मेडिसिन डा. राम मनोहर लोहियां अस्पताल नई दिल्ली शामिल हैं। उन्होंने शुक्रवार को जिला अस्पताल नवांशहर, सब डिवीजन अस्पताल बलाचौर और राजा अस्पताल नवांशहर में स्थापित लेवल 2 और लेवल 3 सेंटरों का दौरा किया।

इस दौरान सबसे पहले उक्त टीम ने जिला अस्पताल में स्थापित कोविड-19 संबंधित आइसोलेशन वार्ड और टीकाकरण केंद्रों पर चल रहे टीकाकरण के काम की समीक्षा की। इस दौरान आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कोरोना मरीजों के इलाज संबंधित सिविल सर्जन डा. गुरदीप सिंह कपूर, डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डा. गगन शर्मा और अस्पताल के कार्यकारी एसएमओ डा. सतविदर पाल सिंह, डा. गुरपाल कटारिया व डा. निर्मल कुमार से विचार-विमर्श किया।

उन्होंने कहा कि जिले में कोविड रोकू टीकाकरण मुहिम के अंतर्गत अधिक से अधिक योग्य व्यक्तियों को टीका लगाया जाए। कोविड-19 को रोकने के लिए होम क्वारंटाइन मामलों में सख्ती बरती जाए और लोगों से कोविड-19 के बारे में सरकार के दिशा-निर्देशों का पालन करवाना सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने कहा कि कोविड -19 की रोकथाम के लिए निगरानी, टेस्टिंग व संबंधित प्रोटोकाल का पालन करवाना बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि सेहत विभाग ने कोरोना काल में बेहतर काम किया है और आगामी दिनों में भी जिला प्रशासन और सेहत विभाग को ज्यादा जिम्मेदारी के साथ काम करने की जरूरत है। जो भी व्यक्ति कोरोना पाजिटिव व्यक्ति के संपर्क में आता है, तो उसे तुरंत होम क्वारंटाइन किया जाए। उन्होंने कोविड मरीजों के संपर्क में आए व्यक्तियों की तुरंत सैंपलिंग करवाने और कंटेनमेंट जोनों में 100 प्रतिशत सैंपलिंग यकीनी बनाने के लिए कहा। इसी तरह कोविड नियमों जैसे मास्क पहनना, हाथों को बार-बार धोना या सैनिटाइज करना और शारीरिक दूरी बना कर रखना के बारे मं लोगों को जागरूक करने के लिए भी कहा। इसके बाद केंद्रीय टीम ने बलाचौर के सब डिवीजन अस्पताल और बलाचौर के वार्ड 13 के माइक्रो कंटेनमेंट क्षेत्र का भी दौरा कर मौके पर स्थिति का जायजा लिया।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप