संवाद सूत्र, श्री मुक्तसर साहिब

आंगनबाड़ी इंप्लाइज फेडरेशन ऑफ इंडिया ने मंगलवार को केंद्र सरकार द्वारा आंगनबाड़ी वकर्स व हेल्परों के मान भत्ते में किए गए मामूली वादे को नामंजूर कर दिया था इसकी सख्त शब्दों में ¨नदा की। फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष हरगो¨बद कौर ने कहा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसा करके वकर्स व हेल्परों से मजाक किया है। जत्थेबंदियों की मांग है कि जब तक वकर्स व हेल्परों को सरकारी मुलाजिम का दर्जा नहीं दिया जाता, तब तक वकर्स को 24 हजार रुपये व हेल्परों को 18 हजार रुपये मान भत्ता दिया जाए। लेकिन केंद्र सरकार ने सिर्फ 1500 से 750 रुपये कह ही बढोत्ररी की है। उन्होंने कहा कि फेडरेशन द्वारा 19 नवंबर को जंतर मंतर दिल्ली में देश स्तरीय रोष प्रदर्शन किए जा रहे है तथा उनकी मांग है कि पिछले 43 सालों से काम करती आ रही आंगनबाड़ी वकर्स व हेल्परों को सरकारी मुलाजिम का दर्जा दिया जाए। आंगनबाड़ी वर्कर्स को केंद्र सरकार पहले तीन हजार रुपये प्रति माह मान भत्ता देती थी तथा हेल्परों को 1500 रुपये मान भत्ता मिलता था। जबकि आज केंद्र सरकार ने वकर्स के मान भत्ते में 1500 रुपये व हेल्परों के मान भत्ते में 750 रूपये की बढोतरी की है। केंद्र सरकार ने इतना मान भत्ता चार साल बढ़ाया है।

Posted By: Jagran