संवाद सहयोगी, श्री मुक्तसर साहिब

गांव थांदेवाला में 18 जून को चोरी के आरोप में अनुसूचित जाति के बच्चे को पेड़ से बांधकर पीटने और बाद में अवैध तौर पर हिरासत में रखने के चर्चित मामले में 20 दिन बीत जाने के बावजूद पुलिस एक भी आरोपी को गिरफ्तार नहीं कर पाई है। जबकि पुलिस इस मामले में देरी कर इसे राजीनामे की ओर लेकर जा रही है। जिसे किसी भी कीमत पर सहन नहीं किया जाएगा। यह बात वीरवार को संविधान बचाओ मंच के कार्यकर्ताओं ने गुरु गो¨बद ¨सह पार्क में भेंट वार्ता के दौरान कही।

उन्होंने कहा कि गांव थांदेवाला में 17 वर्षीय अनुसूचित जाति के बच्चे को गांव के ही कुछ लोगों ने पेड़ से बांधकर बुरी तरह से पीटा था। जिस मामले में पुलिस ने सात लोगों को नामजद करते हुए 15 अज्ञात लोगों पर मामला दर्ज किया था। बाद में एससीएसटी एक्ट भी लगाया गया। एससी कमीशन ने भी इस मामले में सख्ती करने के निर्देश दिए। एससी कमीशन ने 11 जुलाई तक ही रिपोर्ट की मांग की थी। लेकिन पुलिस अभी तक न तो किसी आरोपित को गिरफ्तार कर पाई है और न ही कोई अन्य कार्रवाई की है। नेताओं ने आरोप लगाया कि पुलिस इस केस को कमजोर कर रही है जोकि इसमें राजीनामा करवाना चाहती है। इसके अलावा गांव बुर्ज थलौड़ ¨सह (ब¨ठडा) की युवती से भी दुष्कर्म कर उसे नहर में फेंकने के आरोपित को भी पुलिस ने अभी तक गिरफ्तार नहीं किया है। जबकि इसमें एससीएसटी एक्ट भी नहीं लगाया है। पुलिस इन पर राजीनामा करने का दबाव डला रही है। उन्होंने कहा कि वह इस मामले को मुख्यमंत्री के दरबार तक लेकर जाएंगे और आरोपितों को सजा दिलाकर ही रहेंगे। इस मौके पर अशोक महेंद्रा, हरबंस ¨सह सिद्धू, मदन आरेवाला, दलीप कुमार, ज्ञान ¨सह पांधी, जसपाल थांदेवाला, जगरूप ¨सह, बाहला ¨सह, जगसीर ¨सह, जगरूप ¨सह आदि भी मौजूद थे। इनसेट

कमेटी क रही काम : थाना प्रभारी

थाना सिटी प्रभारी अशोक कुमार का कहना था कि इस मामले में एक कमेटी बनी हुई है। जोकि अपनी कार्रवाई कर रही है।

Posted By: Jagran