जेनएनएन, मोगा। पंजाब के 200 से अधिक युवकों ने विदेश जाकर नौकरी करने की चाहत में बैंकों से अलग-अलग हजारों रुपये के लोन लिया आैर एक ट्रैवल एजेंट को दिया। ट्रैवल एजेंट ने उनको कुवैत भेजकर वहां नौकरी दिलाने की गारंटी दी। इसके बाद वह इन युवकों से करीब एक करोड़ रुपये की ठगी कर चंपत हो गया। पीडि़त युवकों ने थाना मैहना में एजेंट के खिलाफ शिकायत दी है। शिकायत देने के पांच दिन बाद भी एजेंट का कुछ पता नहीं लगा पाया है।

कुवैत में नौकरी दिलाने के नाम पर ट्रैवल एजेंट ने 200 युवकों को ठगा

पीडि़त युवकों ने बताया कि उन्होंने बैंकों से 60 से 70 हजार रुपये बैंकों से लोन लिए, ताकि ट्रैवल एजेंट को दे पाएं। पैसे लेने के बाद से एजेंट का अमृतसर रोड स्थित गांव लंडेके में दफ्तर बंद पड़ा है। एजेंट चार महीने से गांव में किराये पर दुकान लेकर अपनी गतिविधियां चला रहा था।

चार महीने से गांव लंडेके में किराये पर दुकान लेकर चला रहा था गतिविधियां

कुछ युवकों ने बताया कि जिन्होंने एजेंट को पहले पैसे नहीं दिए थे उन्हें एजेंट ने दिल्ली जाकर मेडिकल करवाने के बहाने मोगा बुलाया, लेकिन पैसे लेकर वहां से फरार हो गया। युवक बसों में बैठे इंतजार करते रहे। रात 11 बजे सभी युवक अपने घरों को लौट गए। वहीं, पुलिस का कहना है कि आरोपित एजेंट की तलाश जारी है। कुछ जगह छापामारी की गई है, लेकिन एजेंट हाथ नहीं आया है।

यह भी पढ़ें: इहाना बोली, मेरे पापा के पास भी गन है, बचपन में मारे हैं कई कबूतर

गांव मचाकी निवासी गुरप्रीत सिंह ने बताया कि अमृतसर रोड पर स्थित जगदंबे ट्रैवल के मालिक सुरजीत सिंह ने शहर और गांवों में कुवैत भेजकर नौकरी लगवाने के दावे करने वाले पोस्टर लगा रखे थे। वादा पूरा न होने पर पूरे पैसे वापस किए जाएंगे। महज 60 से 70 हजार रुपये में कुवैत जाएं और नौकरी पाएं।

एंट्री वीजा दिखाया, पैसे देने पर ऑफर लेटर देने की बात कही

200 से अधिक युवक इस ट्रैवल एजेंट के चंगुल में फंसे थे। एजेंट को पहले पैसे देने से युवक हिचक रहे थे, लेकिन एजेंट ने सभी को उनका कुवैत में एंट्री वीजा दिखाया। इसके अलावा पूरे पैसे देने के बाद नौकरी का ऑफर लेटर आने, दिल्ली में मेडिकल और इसके बाद कुवैत के लिए जहाज की टिकट जारी होने की बात कही। एंट्री वीजा को देखने के बाद युवकों ने एजेंट को पैसे थमा दिए।

दिल्ली जाने के लिए बुलाए, युवक बसों में करते रहे इंतजार

दिल्ली में मेडिकल के लिए ले जाने के लिए एजेंट ने युवकों को मोगा बुलाया। करीब 200 युवक मेडिकल के लिए दिल्ली ले जाने को चार निजी बसों का प्रबंध किया गया। जिन युवकों ने पैसे नहीं दिए, उनसे पैसे लेने के बाद ही एजेंट ने उन्हें बस में चढऩे दिया। युवकों को बसों में बिठाकर एजेंट खुद निजी वाहन से साथ चलने की बात कहकर वहां से फरार हो गया।

बस ऑपरेटर्स को भी नहीं दिए थे पैसे

बस चालक और युवक बीते वीरवार को रात 11 बजे तक एजेंट के आदेश का इंतजार करते रहे। जब एजेंट से संपर्क नहीं हुआ तो बस चालकों ने बसें दिल्ली के लिए ले जाने से मना कर दिया और युवक रात को घर लौट गए। जिन बसों को दिल्ली जाने के लिए बुलाया गया था, उन्हें भी एजेंट ने एडवांस में कोई अदायगी नहीं की थी।

यह भी पढ़ें: लुधियाना में छह क्विंटल गोमांस के साथ महिला को पकड़ा, हुआ हंगामा

मामले की गहनता से की जा रही है जांच : थाना प्रभारी

मेहना पुलिस थाना प्रभारी परविंदर सिंह का कहना है कि मामला बड़ा है। मामले की जांच गहनता से कर रहे हैं। एजेंट ठगी के बाद विदेश न जा सके, इसके लिए सभी दूतावासों और हवाई अड्डों पर इसकी सूचना दे दी गई है। आरोपित के कुछ ठिकानों पर दबिश दी गई है, लेकिन वह फरार है। उसने पूरी तैयारी के साथ धोखाधड़ी की है। जल्द काबू कर लेंगे।

Posted By: Sunil Kumar Jha

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!