जागरण संवाददाता, मोगा

पंजाब यूनिवर्सिटी से संबंधित वोकेशनल सर्टिफिकेट, डिप्लोमा व डिग्री कोर्स नौजवानों को देश में ही नहीं विदेश में रोजगार के अवसर देंगे। विदेश जाने की चाहत में कबूतरबाजों के हाथों लाखों रुपये ठगे जाने से भी बच सकेंगे, क्योंकि पीयू के कोर्स की मान्यता कनाडा सहित यूके, आस्ट्रेलिया व यूएसए आदि देशों में है। शहर के सबसे पुराने एसडी कालेज फार वूमेन ने इनमें से हास्पिटल एडमिनिसट्रेशन एंड मैनेजमेंट कोर्स तीन साल पहले शुरू किया था, कोर्स के पहले बैच में एडमिशन कम हुए। मगर, प्लेसमेंट 100 प्रतिशत हो गया, वह भी कोर्स पूरा करने वालों को डिग्री मिलने से पहले ही। अब कॉलेज ने फूड प्रोसेसिग एंड क्वालिटी मैनेजमेंट का नया कोर्स इसी सत्र से शुरू किया है। यह कोर्स भी कनाडा, यूके, आस्ट्रेलिया व यूएसए में मान्य हैं।

-------------

क्यों हैं ये कोर्स खास

प्रिसिपल एसडी कालेज डा. नीना अनेजा ने बताया कि बी वाक हास्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन एंड मैनेजमेंट कोर्स +2 के बाद किया जा सकता है। तीन साल का यह कोर्स करने के बाद जूनियर क्वालिटी एक्जीक्यूटिव इन हास्पिटल एंड हेल्थकेयर फैसिलिटीज, पेशेंट फाइनेंशियल स्पेशलिस्ट, ओपीडी, आइपीडी इंचार्ज, हास्पिटल ह्यूमन रिसोर्स, प्रोजेक्ट मैनेजमेंट, मैन पावर सिस्टम एनालीसिस, जूनियर क्वालिटी एक्जीक्यूटिव, सोशल मीडिया डायरेक्टर्स, एडमिनिस्ट्रेटिव मैनेजर, पेशेंट केयर एक्सीक्यूटिव, आपरेशंस मैनेजर, मार्केटिग मैनेजमेंट के पद पर जाब हासिल की जा सकती है। इस मौके पर डा. राधिका बंसल, डा. पूजा बंसल, कॉलेज मैनेजमेंट के सचिव राजीव मित्तल भी मौजूद थे।

-----------

यह है संभावना

प्रिसिपल डा. नीना अनेजा ने बताया कि हास्पिटल मैनेजमेंट एडमिनिस्ट्रेशन एंड मैनेजमेंट में पहले बैच में तीन साल पहले 15 लड़कियों ने प्रवेश लिया। फाइनल में तीन लड़कियां ही पहुंच सकीं, कुछ की शादी हो गई, कुछ कोर्स बीच में छोड़ गई। फाइनल करने वाली तीन लड़कियों को डिग्री मिलने से पहले ही एक मान्यता प्राप्त अस्पताल में अच्छे पैकेज के साथ जाब आफर हो चुकी है।

------------

फूड प्रोसेसिंग में भी जाब

फूड प्रोसेसिंग एंड क्वालिटी मैनेजमेंट में कोर्स करने के बाद बेकिग एंड टेक्नोलाजिस्ट, फूड पैकिग टेक्नीशियन, फूड प्लांट ले आउट आफिसर, फूड एनालिस्ट, फूड इंजीनियर, क्वालिटी एनालिस्ट एंड फूड सेफ्टी आफिसर के पद पर देश विदेश के फूड प्रोसेसिग प्लांट में जाब हासिल कर सकते हैं।

------------

बीच में कोर्स छूटने पर भी उम्मीदें रहेंगी जिदा

बी वाक कोर्स की खास बात ये है कि नौवीं कक्षा करने वाले विद्यार्थी छह महीने का कोर्स कर सकते हैं। कोर्स करके अगर बीच में छोड़ना पड़ता है, तो कोर्स करने वाले को भारत सरकार के नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क प्रोजेक्ट के तहत सर्टिफिकेट कोर्स का प्रमाण पत्र मिलेगा। 10वीं पास एक साल कोर्स करने पर डिप्लोमा कोर्स का सर्टिफिकेट ले सकते हैं। 11वीं पास दो साल का कोर्स पूरा करने पर एडवांस डिप्लोमा कोर्स का सर्टिफिकेट नेशनल स्किल क्वालीफिकेशन फ्रेमवर्क प्रोजेक्ट के तहत ले सकेंगे। जबकि तीन साल का डिग्री कोर्स करने पर पंजाब यूनिवर्सिटी चंडीगढ़ से बी-वाक की डिग्री मिलेगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!