सत्येन ओझा/राजकुमार, मोगा : स्वच्छ भारत मुहिम के तहत हर घर में शौचालय उपलब्ध करवाने का लक्ष्य रखा गया था। इस स्कीम के तहत बीपीएल, एससी-एसटी, छोटे किसान, दिव्यांग, मजदूर, विधवा को सरकार ने शौचालय के लिए धनराशि उपलब्ध कराने का दावा किया था। सरकार तो शौचालय के पहली किश्त जारी कर योजना को जमीन पर उतारना भूल गई, लेकिन मोगा के लोगों ने सरकार की इस मुहिम को जमीन पर उतार दिया। पहली किश्त मिलने के बाद कई महीने तक दूसरी किश्त मिलती नहीं दिखी तो खुद ही शौचालय बना लिए, मोगा के ग्रामीण क्षेत्र में दिखे इस जज्बे पर तो भारत सरकार ने भी अपनी मुहर लगा दी है। मोगा का ग्रामीण क्षेत्र खुले में शौच मुक्त में पूरे देश में पहले स्थान पर रहा है।

शहरी क्षेत्र में भी यही हाल है, यहां लाभार्थियों को एक ही शिकायत है कि सरकार ने उन्हें पूरा लाभ नहीं दिया, लेकिन उन्होंने खुद सरकार को शिकायत का मौका नहीं दिया।

निगम के चीफ सेनेटरी इंस्पेक्टर विक्रमजीत सिंह ने बताया कि खुले में शौच मुक्त अभियान के तहत शौचालय के लिए 3432 लोगों के आवेदन आए, जिनमें से 3361 के आवेदन मंजूर कर एक साल पहले उन्हें दो हजार रूपये की पहली किश्त जारी कर दी थी। सरकार ने निगम को 67 लाख 22 हजार रुपये की पहली किस्त में जारी की थी। दूसरी किस्त के दौरान 59 लाख 22 हजार 423 रुपये की राशि 1269 लोगों को जारी की गई थी। 2092 लोगों को अभी दूसरी किश्त की राशि देना बाकी है। इसकी जानकारी सरकार को भेज दी है। केस-1

लालसिंह रोड की गली नं.2 निवासी कमलजीत सिंह ने बताया कि उनको शौचालय बनाने के लिए कई महीने पहले दो हजार रुपये की राशि मिली थी। करीब छह महीने पहले दूसरी किश्त के रूप में 4646 रूपये की बकाया राशि से शौचालय का काम पूरा हुआ है। अब उन्हें खुले में शौचालय के लिए नहीं जाना पड़ता है। केस नंबर 2

विश्वकर्मा नगर निवासी कुलवंत सिंह ने कहा कि उनको लगभग डेढ़ वर्ष पहले पहली किस्त दो हजार रूपये की शौचालय बनवाने के लिए मिली थी। दूसरी किश्त पांच महीने पहले मिलने पर उनका शौचालय का कार्य पूरा हुआ है। केस नंबर 3

इंदिरा पुरी कॉलोनी निवासी शिव कुमार ने बताया कि उन्हें शौचालय की दोनों किश्तें मिल चुकी हैं, शौचालय का काम पूरा हो गया है। हालांकि शौचालय तो पहले ही बनबा लिया था, लेकिन तब कच्चा था, अब दूसरी किश्त मिलने के बाद उसे पक्का व अच्छा बना लिया है। कितना मिलना है पैसा

पहली किस्त दो हजार रुपये

दूसरी किश्त 4667 रुपये

कुल 6667 रुपये शौचालय के लिए मिलने हैं। पहले ये राशि 5333 रुपये मिलनी थी, बाद में ये राशि बढ़ा दी गई थी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!