सत्येन ओझा.मोगा

कश्मीरी पार्क के बड़े हिस्से स्वामी वेदांतानंद पार्क को नगर निगम लैंडस्केपिग व फेंसी लाइटें लगाकर नया रूप देगा। एफएंडसीसी की दो दिन पहले हुई मीटिग में निगम की उद्यान शाखा के लिए कई महत्वपूर्ण उपकरणों के लिए राशि मंजूर होने के बाद वीरवार को निगम कमिश्नर सुरिदर सिंह ने वेदांतानंद पार्क का निगम के सुपरिंटेंडेंट इंजीनियर रंजीत सिंह, उद्यान विभाग की प्रमुख जूनियर इंजीनियर हरसिमरत कौर व निगम के अन्य अधिकारियों के साथ निरीक्षण कर पार्क की बेहतरी की संभावनाओं का पता किया। ऊंची होगी बाउंड्रीवाल

निगम कमिश्नर सुरिदर सिंह का कहना है कि वेदांतानंद पार्क व उससे जुड़े चिल्ड्रन पार्क दोनों का ही कायाकल्प कर इन्हें शहर के आदर्श पार्क के रूप में विकसित किया जाएगा। निरीक्षण के दौरान बाउंड्रीवाल का ऊंचा करने के साथ ही जिन स्थानों पर बाउंड्रीवाल टूटी हैं, उसे रिपेयर करने का फैसला लिया गया। वेदांतानंद पार्क में लैंडस्केपिग कर पौधों के बीच मनमोहक फेंसी लाइटें लगाकर पार्क को खूबसूरत रूप दिया जाएगा, ताकि सुबह यहां आने वाले हजारों लोगों को आक्सीजन देने के साथ ही रात के समय भी रंगबिरंगी रोशनी में जगमगाता हुआ पार्क प्रकृति के अनुपम सौंदर्य के बीच लोगों को परिवार सहित पार्क में आने के लिए आकर्षित कर सके। हाइड्रोलिक ट्रैक्टर व कल्टीवेटर मशीन खरीदने को मंजूरी

निगम कमिश्नर ने पार्क के उन बिन्दुओं का भी निरीक्षण किया जहां आए दिन पानी की लीकेज के कारण लाखों लीटर पानी वैसे ही बह जाता है। पार्क में पानी भर जाने से यहां आने जाने वाले लोगों को भी काफी परेशानी होती थी। उन्होंने सभी लीकेज को तत्काल प्रभाव से ठीक करने के निर्देश संबंधित विभाग के अधिकारी को दिए। दो दिन पहले ही हुई एफएंडसीसी की बैठक में शहर भर के पार्कों के सुंदरीकरण व उन्हें नया रूप देने के लिए तैयार किए गए प्रस्ताव के तहत एफएंडसीसी ने उद्यान विभाग के लिए हाइड्रोलिक ट्रैक्टर, शहर के सभी चारों जोन एबीसीडी के लिए ट्री गार्ड, पार्कों के घास लगाने के लिए कल्टीवेटर खरीदने को मंजूरी दी गई थी। उसी के बाद निगम कमिश्नर ने अब शहर के पार्कों के कायाकल्प के लिए काम शुरू कर दिया है।

घास लगाकर और हरा-भरा बनाया जाएगा

निगम कमिश्नर ने वेदांतानंद पार्क व कश्मीरी पार्क के मध्य में बने चिल्ड्रन पार्क का भी अवलोकन किया, पार्क के इस हिस्से का भी कायाकल्प करने का फैसला लिया गया है। वर्तमान में चिल्ड्रन पार्क में बच्चों के झूले तो लगे हैं लेकिन घास न होने के कारण पार्क के फर्श पर यहां आने वाले बैठ भी नहीं सकते हैं, कुर्सियां भी सीमित संख्या में लगी हुई हैं। यहां भी पूरे पार्क में घास लगाने के साथ ही फेंसी लाइटें लगाकर पार्क के इस हिस्से को और भी ज्यादा हरा भरा किया जाएगा। सबसे कम हरियाली पार्क के इसी हिस्से में है, यही वजह है कि सबसे ज्यादा गंदा भी यही हिस्सा रहता है।

Edited By: Jagran