जागरण संवाददाता,मोगा

प्रदेश के मुख्य चुनाव अधिकारी डा.एस करुणा राजू, जिला चुनाव अधिकारी हरीश नैय्यर की निगरानी में जिले के चारों विधानसभा क्षेत्र के लिए ईवीएम मशीन व वीवीपैट मशीनों का पहला रैंडमाइजेशन किया गया। रैंडमाइजेशन भारत निर्वाचन आयोग के एक विशेष साफ्टवेयर के माध्यम से होता है। इसके साथ ही मशीन संबंधित विधानसभा क्षेत्र के लिए तैयार कर दी जाती है। रैंडेमाइजेशन जिला निर्वाचन अधिकारी आफिस में किया गया, लेकिन अपनी ई नजरों से दो घंटे तक चली इस प्रक्रिया पर अपनी आंखों से नजर रखते रहे।

संबंधित विधानसभा क्षेत्र में ईवीएम मशीन व वीवीपैट मशीनें पहुंचने के बाद सेकंड रैंडमाइजेशन में मशीनें बूथ संख्या के लिए तैयार होंगी। किस बूथ पर कौन सी मशीन जाएगी, ये किसी भी अधिकारी को पता नहीं रहता है, रेंडमाइजेशन के आधार पर भी तय होता है।

मशीनें जिले के चारों हलकों मोगा, बाघापुराना, निहाल सिंहवाला व धर्मकोट में प्रयोग की जाने वाली ईवीएम व वीवीपैट मशीनों का रैंडेमाइजेशन एडिशनल जिला चुनाव अफसर कम एडिशनल डिप्टी कमिश्नर हरचरण सिंह की अगुआई में किया गया। इस पूरी प्रक्रिया के दौरान सभी राजनीतिक पार्टी के प्रतिनिधि पूरी प्रक्रिया के दौरान मौके पर मौजूद रहे।

एडिशनल जिला चुनाव अफसर ने बताया कि जिले में 804 पोलिग बूथ हैं। चारों हलकों के चुनाव बूथों के अलावा 20 प्रतिशत ईवीएम व तथा 30 प्रतिशत वीवी पैट रिजर्व किए गए हैं। मोगा के 804 बूथों के लिए 565 रिजर्व ईवीएम रखी गई हैं। 1932 ईवीएम मशीनें व 1045 वीवीपैट मशीनें चारों विधानसभा क्षेत्र को अलाट किए गए हैं।

विधानसभा हलका मोगा के 213 बूथों के लिए 512 ईवीएम , 277 वीवीपैट, विधानसभा चुनाव हलका बाघापुराना के 182 बूथों के लिए 438 ईवीएम तथा 237 वीवीपैट मशीन दी गई हैं। विधानसभा चुनाव हलका निहाल सिंह वाला के 203 बूथों के लिए 488 ईवीएम तथा 264 वीवी पैट मशीन दी गई हैं। विधानसभा चुनाव हलका धर्मकोट के 206 चुनाव बूथों के लिए 496 ईवीएम, 268 वीवीपैट मशीनें दी गई हैं। उन्होंने बताया विधानसभा वार मशीनों का वितरण कर दिया गया है। दूसरी व अंतिम रैंडेमाइजेशन के बाद उन्हें संबंधित चुनाव बूथवार रिटर्निंग अफसर को सौंप दिया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि रैंडेमाइजेशन के दौरान बैलेट यूनिट व कंट्रोल यूनिट की ग्रुपिग भी अपने आप ही हो जाएगी।

Edited By: Jagran