संवाद सहयोगी,मोगा

पुरानी दाना मंडी में सिद्ध श्री बाला जी मंदिर में भक्तों ने शनिदेव की पूजा-अर्चना की। सर्वप्रथम पंडित दया शंकर ने गणपति पूजन, नवग्रह पूजन, कलश पूजन व शनि महाराज के स्वरूप का पूजन किया।

शनिदेव का सरसों के तेल के साथ अभिषेक किया गया। संकीर्तन के दौरान गायकों ने तेरी जय हो शनि देवा तेरे दर ते न जाए कोई खाली.. आदि भजनों का गायन किया। महंत बिशेषर गिरि ने बताया कि जिस प्रकार भगवान शिव की पूजा करने के साथ- साथ पावन शिवलिग की पूजा करने से महादेव की कृपा बरसती है। इसी तरह शनि महाराज की पूजा के साथ शनिदेव के स्वरूप की पूजा, तेल से अभिषेक, काले वस्त्र आदि अर्पण करने से वह खुश होकर भक्तों की रक्षा करते है। हमें हर शनिवार को शनिदेव की विधिवत पूजा-अर्चना करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि दुखों को दूर करने के लिए कलयुग के अवतार शनिदेव का पूजन करना चाहिए। इस अवसर पर आरती करके प्रसाद वितरित किया। इस अवसर पर गगन नोहरिया, विमल कुमार, मनोज कुमार, पूजा रानी, पलता जी के अलावा अन्य गणमान्य लोग हाजिर थे।

Edited By: Jagran