संवाद सहयोगी,मोगा

विश्व भर में फैली कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए पंजाब सरकार की ओर से किए जा रहे प्रयासों को लगातार बल मिल रहा है। जिसका अंदाजा इस बात से लग रहा है कि अब जिला मोगा के लोगों में वैक्सीनेशन के प्रति उत्साह दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है। छह दिसंबर को जिला मोगा में 5924 लोगों ने वैक्सीन लगवाई जो कि बहुत ही अच्छा संकेत है।

यह शब्द डिप्टी कमिश्नर हरीश नैयर ने कोरोना वैक्सीनेशन की प्रगति समीक्षा करने के लिए जिला स्तरीय बैठक की अध्यक्षता करते दी। उन्होंने सेहत विभाग के अधिकारियों व मैदानी स्तर पर काम कर रही टीमों को बधाई देते कहा कि आज समय की जरूरत है कि जिला मोगा निवासियों को कोविड की संभावित तीसरी लहर से हर हालत में बचाया जाए। इसलिए सबसे ज्यादा जरूरी है कि अधिक से अधिक वैकसीन की जाए। उन्होंने कहा कि सबसे पहले जरूरी है कि सारे सरकारी अधिकारी, कर्मचारी अपनी मुकम्मल वैकसीन करवानी यकीनी बनाए। मीटिग दौरान जिला टीकाकरण अफसर डा. अशोक सिगला ने कहा कि जिला मोगा में इस समय 18 वर्ष से ऊपर उम्र वाले निवासियों की संख्या 811469 है, जिसमें 564514 लोगों ने पहली डोज तथा 246955 लोगों ने दूसरी डोज लगवा दी है। उम्मीद की जा रही है कि अगले दस दिनों में आबादी का बड़ा हिस्सा वैक्सीन लगवा लेगा। डिप्टी कमिश्नर ने अधिकारियों को हिदायत की कि जिला मोगा में निजी व्यापारिक संस्थानों की सहायता से लगने वाले दो आक्सीजन प्लांट जल्दी से जल्दी चालू करवाए जाए, ताकि भविष्य में आक्सीजन की कमी की स्थिति का सामना न करना पड़े। आशा वर्करों की हड़ताल को ध्यान में रखते हिदायत की कि अब आंगनवाड़ी वर्कर सेहत विभाग की सहायता करेंगी। उन्होंने कहा कि आंगनवाड़ी वर्कर लोगों को वैक्सीनेशन के लिए प्रेरित करेंगी। उन्होंने कहा कि अब से एसडीएम व एसएमओ सैंपलिग तथा टीकाकरण की खुद निगरानी करेंगे तथा रोजाना रिपोर्ट निजी तौर पर डिप्टी कमिश्नर को भेजेंगे। इस बैठक में सिविल सर्जन डा. हितिदर कौर कलेर ने भरोसा दिया कि कोरोना के इस नए रूप को जिला मोगा में आने नहीं दिया जाएगा। इस बैठक में एडिशनल डिप्टी कमिश्नर हरचरण सिंह व अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran