संवाद सहयोगी, मोगा :

समाजसेवी देवप्रिय त्यागी ने शहर में मां बगलामुखी यज्ञशाला की स्थापना के लिए भूमि का पूजन किया। उन्होंने कहा कि ये शहरवासियों का सौभाग्य है कि यज्ञशाला की स्थापना आज एकादशी के शुभ अवसर पर हुई। आने वाले समय में यहां पूर्ण विधि से हवन कराया जाएगा।

देवप्रिय त्यागी ने कहा कि गंगा सिर्फ आप का, चंद्रमा सिर्फ ताप का और कल्पवृक्ष अभिशाप का नाश करता है। लेकिन मां बगलामुखी का दर्शन पाप, ताप और अभिशाप तीनों का नाश करता है। इसलिए मां बगलामुखी का संग हमेशा करें, जिससे आपका कल्याण होगा। साहित्याचार्य नंदलाल ने बताया कि बगलामुखी देवी को दस महाविद्याओं में से आठवीं महाविद्या माना गया है। मां के इस स्वरूप को तंत्र और स्तंभन शक्ति के रूप में जाना जाता है। देवी बगलामुखी का प्राकट्य वैशाख शुक्ल अष्टमी तिथि पर हुआ था। उन्होंने बताया कि हमें बच्चों में हमेशा अच्छे संस्कार पैदा करने चाहिए। यदि बच्चों में अच्छे संस्कार होंगे तो समाज की छवि भी सुधरेगी।

इस मौके पर विभिन्न धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधियों में संजीव शर्मा, विजय मिश्रा, नवदीप गुप्ता , विक्की मोगा वाला, वरुण भल्ला, अनमोल शर्मा, सुशील ढींगरा, रजनीश, सुखदेव सिंह, दीपक शर्मा, अमनदीप जोशी, सुधीर सूद, तहलचंद शर्मा , सुरेंद्र शर्मा, राहुल राठौर, रमेश अरोरा, राजेश शर्मा आदि मौजूद थे।

Edited By: Jagran