जागरण संवाददाता, मोगा : दो बिल्डिग इंस्पेक्टरों से बिल्डिग ब्रांच का चार्ज छीन लिए जाने के बाद अब एक के बाद एक घपले सामने आने लगे हैं। कथित रिश्वत लेकर नौ नंबर न्यू टाउन में बनवाई गई एक और बिल्डिग सोमवार को नगर निगम ने सीज कर दी। इससे पहले शनि मंदिर के निकट एक अन्य बिल्डिग के जिस मुद्दे पर नगर निगम हाउस की बैठक में जमकर हंगामा हुआ था, उस बिल्डिग के मामले में रिश्वत की कुछ राशि वापस किए जाने का मामला भी सामने आया है। हाउस की बैठक में खुलेआम एक लाख रुपये की रिश्वत लेकर बिल्डिग खड़ी कराने का आरोप लगाया गया था।

एटीपी दमनजीत सिंह ने सोमवार को नौ नंबर न्यू टाउन में निर्माणाधीन एक बिल्डिग की दूसरी मंजिल को सीज कर दिया गया। एटीपी का कहना है कि बिल्डिग नियमों को ताक पर रखकर बनाई गई थी, जिसके चलते बिल्डिग सीज कर दी गई है। उधर सूत्रों का कहना है कि जिस समय शहर में बिल्डिग इंस्पेक्टर के रूप में तरणप्रीत सिंह व बिल्डिग इंस्पेक्टर हरमिदर सिंह मक्कड़ बिल्डिग ब्रांच का काम देख रहे थे, उस समय कथित रिश्वत लेकर ही बिल्डिगें खड़ी कर दी गई थीं, जिनमें से शनि मंदिर की बिल्डिग को लेकर 19 फरवरी को जमकर निगम हाउस की बैठक में हंगामा हुआ था। इसके बाद सोमवार को फिर एक बिल्डिग में हेराफेरी सामने आने के बाद नौ नंबर न्यू टाउन में एक अन्य बिल्डिग सीज कर दी गई। सूत्रों के अनुसार इस बिल्डिग को बनने देने के लिए भी निगम के एक इंस्पेक्टर ने मोटी डील की थी। जब बनी बिल्डिंग तब तो मैं छुंट्टी पर था : तरणप्रीत सिंह

निगम के जिस बिल्डिग इंस्पेक्टर तरणप्रीत सिंह पर नियमों के खिलाफ कथित रिश्वत लेने के आरोप लगे हैं, उनका कहना है कि आरोप गलत है, जिस समय बिल्डिग बन रही थीं, उस समय वे 15 दिन की छुट्टी पर थे, जब उनसे पूछा गया कि बिल्डिग तो 15 दिन में नहीं बनी होगी, तो उन्होंने कहा कि बाद में वे एक महीने की छुट्टी पर चले गए थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!