फोटो===

मोगा में खोखों के चलते विवाद कारण छीने गए रोजगार की चिंता इतनी बढने लगी है कि अब मानवीय जानें ही जाने लगी है। मामला मोगा शहर के चौक शेखा नजदीक एक सब्जी का कारोबार करने वाले परिवार का है जिनकी 'लहौरी राम सब्जी की दुकान' बंद होने कारण 60 वर्षीय लहौरी राम अटैक के चलते मौत के मुंह चला गया। मृतक के भतीजे हैप्पी ने बताया कि लहौरी राम का परिवार दशकों से सब्जी मंडी में दुकान करता है तथा अब पाच दिन पहले दुकानों को गिराने की शुरू हुई कार्रवाई उपरात लहौरी राम इतना चिंतित हो गया कि घर आकर भी दुकान संबंधी ऐसी बातें करता रोने लग जाता कि अब परिवार का क्या बनेगा। उन्होंने बताया कि इस तरह की बनी स्थिति के चलते ताया का मानसिक संतुलन भी पिछले तीन दिनों से बिगडऩे लगा था। उन्होंने कहा कि परिवार चाहे ताया को हौंसला तो देता, लेकिन समूचा ठप्प हुआ कारोबार परिवार को भी चिंतित कर देता। उन्होंने बताया कि इस दुकान से 12 से भी ऊपर परिवार का पालन पोषण होता था, जिनको अब रोजी रोटी से वंचित होना पड़ा है। उन्होंने कहा कि जहा यह दुकान के चार हिस्सेदार है, वहीं दुकान पर चार मुलाजिम तथा चार लोडिंग व अनलोडिंग करने वाले रेहड़ों वालों का परिवार भी अब रोजी रोटी से मोहताज है। उन्होंने आरोप लगाया कि हलका विधायक तथा नगर निगम मोगा के मेयर ने इस तरफ ध्यान नहीं दिया। अगर वह समय पर दुकानदारों को नई मार्केट बनाकर देते तो मोगा में ऐसे हालात न बनते।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!