संवाद सूत्र, मानसा : मानसा जिले के गांव अनूपगढ के 48 वर्षीय किसान अमरीक सिंह ने ेकर्ज के बोझ से परेशान होकर जहरीला पदार्थ निगलकर खुदकुशी कर ली। मृतक किसान पर 6 लाख रुपए का कर्ज था और उसके पास 6 एकड़ जमीन है। किसान अपने पीछे पत्नी और दो बेटों को छोड़ गया है। मामले में पुलिस ने कार्रवाई करते हुए शव का पोस्टमार्टम करवा परिजनों को सौंप दिया है। वहीं किसान संगठन ने मृतक के परिजनों को उचित मुआवजा और उनका पूरा कर्ज माफ करने की मांग की है। मृतक के परिवारऔर किसान नेताओं ने बताया के अमरीक सिंह ने अपना कर्ज उतारने के लिए बहुत मेहनत की लेकिन खेती का धंधा लाभदायक न होने के कारण अपना कर्ज चुकाने में असफल रहा। किसान नेता महेन्द्र सिंह भैणीबाघा व गांव के अनूपगढ़ के सरपंच बलबीर सिंह ने पंजाब सरकार से मांग की है कि वह मृतक किसान के परिजनों को उचित मुआवजा दे और उनका पूरा कर्ज माफ करे। किसान नेताओं ने कहा कि पंजाब सरकार किसानों का कर्ज माफी के दावे करती है, मगर अमरीक सिंह जैसे किसान खुदकुशी कर सरकार के दावों की पोल खोल रहे हैं। थाना जोगा के जांच अधिकारी नैब सिंह ने बताया कि मृतक किसान अवतार सिंह के बेटे के बयानों पर धारा 174 की कार्रवाई की है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!