संसू, मानसा : मिशन तंदुरुस्त पंजाब के तहत सीनियर मेडिकल अफसर डॉ. नवजोतपाल सिंह भुल्लर की अगुआई में सेहत केंद्र ख्यिाला कलां में जागरूकता सेमिनार का आयोजन किया गया। इस अवसर पर डॉ. हरमनदीप सिंह ने कहा कि शूगर प्रत्येक उम्र के लोगों में पाया जाता है। बच्चों में शूगर को सिर्फ दवा के जरिए कंट्रोल किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि शूगर को कुछ दवाएं व शारीरिक कसरत के जरिए कंट्रोल किया जा सकता है। बार-बार भुख प्यास लगना, जख्म ठीक न होना, बार-बार पेशाब आना व थकावट शूगर के लक्षण है। इस अवसर पर ब्लॉक एजूकेटर केवल सिंह ने कहा कि प्रति-दिन एक घंटा पैदल चलने से इस बीमारी से बचाव किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार द्वारा सभी सरकारी अस्पताल में शूगर का टेस्ट व उपचार मुफ्त किया जाता है। 30 साल से ज्यादा उम्र के व्यक्ति को साल में दो बार शूगर की जांच जरुर करवानी चाहिए। इस अवसर पर सेहत सुपरवाइजर सुखपाल सिंह, नरिदर सिंह के अलावा अन्य मौजूद थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!