जागरण संवाददाता, लुधियाना। दिल्ली में संसद भवन के बाहर बुधवार काे हुए टकराव का असर लुधियाना में भी देखने काे मिल रहा है। अकाली सांसद हसिमरत कौर बादल और सांसद रवनीत बिट्टू के बीच हुई बहस के बाद वीरवार काे अकाली दल कार्यकर्ता कांग्रेस दफ्तर पर प्रदर्शन करने पहुंचे। अकाली कार्यकर्ता प्रदर्शन ताे किसानाें की कर्ज माफी काे लेकर कर रहे थे, लेकिन असली वजह दिल्ली का घटनाक्रम रहा।

इस दाैरान कांग्रेस जिला प्रधान अश्विनी शर्मा अकाली कार्यकर्ताओं से मिलने पहुंचे। अकाली कार्यकर्ताओं ने किसानों के साथ किए वादे पूरे नहीं करने पर पंजाब सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। अकाली दल का कहना है कि पंजाब सरकार ने कर्जमाफी का वादा किया था, जिसे अब तक पूरा नहीं किया जा सका है।

लुधियाना में प्रदर्शन करते अकाली दल के कार्यकर्ता। (जागरण)

बुधवार काे हरसिमरत कौर बादल को नारेबाजी करते देखकर बिट्‌टू वहीं खड़े हाे गए और इशारा करते हुए कहने लगे कि यह तो उस वक्त कैबिनट में मंत्री थीं और इन्होंने ही तो किसान विराेधी बिल पास करवाए थे। इसलिए आज उनका यह प्रदर्शन एक ड्रामे के अलावा कुछ नहीं है। गाैरतलब है कि पंजाब में कृषि सुधार कानूनाें काे लेकर सियासत गर्मा रही है।

यह भी पढ़ें-पंजाब में Adani Logistics Park पार्क बंद होने से आयातक व निर्यातक मुश्किल में, करोड़ों का माल फंसा

 

पंजाब के किसान दिल्ली में दे रहे धरना

गाैरतलब है कि पंजाब के किसान पिछले कई महीनाें से दिल्ली में माेदी सरकार के खिलाफ कृषि सुधार कानूनाें काे रद करने की मांग काे लेकर धरने पर बैठे हैं। लुधियाना के सांसद रवनीत बिट्टू हाल में भी विवादों में रहे हैं। पवित्र सीटों वाले बयान पर माफी मांग चुके हैं। किसान आंदोलन में इन पगड़ी उतार दी गई थी।

 यह भी पढ़ें-हरियाणा के किसान नेता चढूनी की सियासी आकांक्षा अब पंजाब में जागी, कहा- 2022 चुनाव में सभी 117 सीटों पर लड़ेंगे

 

Edited By: Vipin Kumar